राज्य ब्यूरो, शिमला : हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की परीक्षाओं में पिछले वर्ष के मुकाबले आधे से भी कम परिणाम देने वाले शिक्षकों की आधी अधूरी रिपोर्ट स्कूलों से उच्च शिक्षा निदेशालय को सौंप दी गई है। अब उच्च शिक्षा निदेशालय जिला उपनिदेशकों को पूरी जानकारी के साथ रिपोर्ट भेजने के निर्देश जारी कर रहा है।

अभी तक दस जिलों से ही शिक्षकों की रिपोर्ट निदेशालय को सौंपी गई है। इसमें से कुल्लू जिला की रिपोर्ट शुक्रवार को निदेशालय को मिली है। विभाग के अधिकारियों की मानें तो अधिकतर स्कूलों ने आधी अधूरी रिपोर्ट भेजी है। स्कूल में बोर्ड की परीक्षा का परिणाम पिछले साल के मुकाबले कम रहने पर शिक्षकों के नाम तो भेज दिए लेकिन उसमें यह जानकारी देना भूल गए कि शिक्षक स्कूल में कब से तैनात हैं। वे स्कूल में शिक्षक की ज्वाइनिंग की तारीख बताना भूल गए हैं। ऐसे में शिक्षकों पर कार्रवाई करने में दिक्कत पेश आएगी। फिलहाल कांगड़ा और लाहुल स्पीति जिलों से स्कूलों की रिपोर्ट नहीं आई है। जिन शिक्षकों का बोर्ड की परीक्षा का परिणाम पहले के मुकाबले आधा रह गया है, उन्हें लेकर नीति में स्पष्ट किया गया है कि जिस शिक्षक ने नौ महीने से अधिक समय तक स्कूल में पढ़ाया होगा, परिणाम के लिए वही जिम्मेदार होगा। इसके अलावा बोर्ड की परीक्षा का परिणाम घटने की स्थिति में उसी शिक्षक पर कार्रवाई होगी जिसकी कक्षा में पांच से अधिक विद्यार्थी होंगे। सही जानकारी के साथ मंगवाई जाएगी रिपोर्ट

अभी दस जिलों के स्कूलों की रिपोर्ट मिली है। कुछ स्कूलों ने रिपोर्ट में अधूरी जानकारी दी है। ऐसे में उन रिपोर्टो को वापस भेजा जाएगा। दोबारा सही जानकारी के साथ रिपोर्ट मंगवाई जाएगी।

डॉ. सोनिया ठाकुर, संयुक्त निदेशक, उच्च शिक्षा विभाग।

Posted By: Jagran