जितेंद्र मेहता, रोहड़ू

विद्युत उपमंडल रोहड़ू के तहत तीन गांवों कांसाकोटी, चेबडी व बलसा के करीब सौ बिजली उपभोक्ता सात महीने से बिजली की आंखमिचौनी से परेशान हो रहे हैं। इन तीन गांवों से महज एक किलोमीटर की दूरी पर ही विद्युत बोर्ड की ओर से 216.14 लाख रुपये की लागत से कांसाकोटी सब स्टेशन बनाया है और सुचारू रूप से सेवाएं दे रहा है। इससे विभिन्न पांच फीडरों से क्षेत्र के सैकड़ों ट्रांसफार्मरों के जरिए बिजली आपूर्ति दी जा रही है।

इस सब स्टेशन के साथ लगते इन तीन गांवों में बिजली की हालत यह है कि यहां तकनीकी कारणों के चलते बार-बार कट लग रहे हैं। स्थानीय उपभोक्ताओं दलीप ठाकुर, सुरजन सिंह, सुरेंद्र सिंह, अमित, सुरेश, दीपक का कहना है कि वे सात माह से बिजली की आंखमिचौनी से परेशान हो गए हैं। इसको लेकर ग्रामीणों का प्रतिनिधिमंडल बोर्ड से कई बार मिल चुका है, लेकिन इस समस्या का समाधान नहीं हो सका है।

क्षेत्र के उपभोक्ताओं को लंबे समय से आ रही बिजली आपूर्ति की समस्याओं को देखते विभाग की ओर से कासांकोटी में यह सब स्टेशन स्थापित किया गया है। लेकिन स्थानीय लोगों का कहना है कि बिजली की समस्या का कारण बोर्ड की ओर से बिजली का गलत वितरण करना है। इसमें इन तीन गांवों को कुटाड़ा फीडर के साथ शामिल करने के कारण आपूर्ति सही नहीं हो रही है। कुटाड़ा फीडर में पहले ही 24 ट्रांसफार्मरों के तहत हजारों उपभोक्ता शामिल हैं। वहीं इस क्षेत्र की ओर विद्युत लाइन एक लंबे स्पैन से होकर गुजर रही है। यहां के उपभोक्ता काफी समय से इन तीन गांवों के लिए अलग से ट्रांसफार्मर की मांग कर रहे हैं जो अभी तक पूरी नहीं हो रही है। जिस पर विभाग की ओर से लगातार आश्वासन मिल रहे हैं। विद्युत उपमंडल रोहड़ू के तहत तीन गांवों कांसाकोटी, चेबडी व बलसा में हाल ही में बार-बार कट लगने की दिक्कत आ रही है। इस समस्या को देखते हुए बोर्ड की ओर से एक अलग से ट्रांसफार्मर प्रस्तावित है जो कुछ समय में लग जाएगा। इसके बाद से इन तीन गांवों के उपभोक्ताओं को सुचारू विद्युत आपूर्ति मिल सकेगी।

- पंकज, कनिष्ठ अभियंता विद्युत अनुभाग कांसाकोटी।

Edited By: Jagran