मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, शिमला : कुल्लू जिले के बंजार क्षेत्र में श्मशानघाट में एक महिला का शव न जलाने देने की घटना का प्रदेश हिदू जागरण मंच ने निदा की है। सेवानिवृत्त आइपीएस अधिकारी केसी सडयाल ने कहा कि प्रदेश के किसी भी जिले में जब इस तरह की घटना होती है तो जिला प्रशासन अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति कानून के तहत एफआइआर दर्ज करके अपनी जिम्मेदारी पूरी मान लेता है। इससे समाज में भेदभाव की दरार और भी गहरी हो जाती है। जिला प्रशासन को इस समस्या के समाधान के लिए सकारात्मक काम करने की जरूरत है। प्रशासन को स्थानीय तहसीलदार व एसएचओ के नेतृत्व में इन संस्थाओं के साथ पंचायत स्तर पर कार्यक्रम करने चाहिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप