जागरण संवाददाता, शिमला : शहर के लोअर बाजार में इन दिनों करवाचौथ त्योहार को लेकर खूब खरीदारी हो रही है। जगह-जगह करवाचौथ से संबंधित सामान की खरीदारी के लिए भीड़ जुट रही है। वहीं कारोबारी भी व्यापार चमकाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। बाजार में साज-सज्जा से लेकर व्रत में इस्तेमाल होने वाले खाद्य पदार्थ के दाम में बढ़ोतरी हो गई है।

नारियल की ही बात करें तो यह बाजार में अलग-अलग दाम पर मिल रहा है। सामान्य तौर पर 30 से 40 रुपये के बीच बिकने वाला नारियल अब 50 से 60 रुपये तक बिक रहा है। वहीं महिलाएं महंगे दाम पर नारियल खरीदने पर मजबूर हैं। बताया जा रहा है कि नारियल पानी शरीर के लिए फायदेमंद होता है। उपवास में नारियल पानी का सेवन करें तो ये शरीर में इलेक्ट्रोलाइट नियंत्रण रखने में मदद करता है। नारियल पानी ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल करता है और एनर्जी भी बनाए रखता है। रविवार को करवाचौथ का व्रत है और महिलाएं इसको लेकर काफी उत्साहित हैं। सरगी की थाली हो पौष्टिक

करवाचौथ के दिन पत्नियां पति की लंबी उम्र के लिए पूजा करती हैं और सुबह से ही निर्जल व्रत रखती हैं। रात में चांद को देखकर पूजा के बाद सुहागिन महिलाएं व्रत खोलती हैं। पूरा दिन महिलाएं कुछ भी खाती व पीती नहीं हैं। ऐसे में परंपरा के मुताबिक सूर्योदय के समय सुहागिन महिलाएं सरगी की थाल सजाती हैं और सरगी खाकर व्रत शुरू करती हैं। पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखते हुए पूरा दिन कुछ न खाने से कमजोरी आ सकती है। ऐसे में जरूरी है कि सरगी की थाली में ऐसे पौष्टिक आहार हों जिसे खाकर पूरा दिन भूख न लगे और एनर्जी भी बनी रहे। इसलिए सामान्य तौर पर महिलाएं सरगी की थाल में दूधवाली फैनियां, मट्ठी और दूध से बने पनीर के व्यंजन खा सकती हैं। वहीं पानी की कमी को पूरा करने के लिए इसकी जगह नारियल पानी का इस्तेमाल किया जाता है।

Edited By: Jagran