शिमला, राज्य ब्यूरो। वीरभद्र सिंह और सुखविंदर सिंह सुक्खू के बीच जारी जुबानी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। अब दोनों नेताओं के समर्थक भी मैदान में कूद आए हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर की चेतावनी देने के बावजूद मंगलवार को सुक्खू के समर्थन में प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से पूर्व प्रदेशाध्यक्ष, विधायक और पूर्व विधायकों का बयान आया है। इसमें सुक्खू के छह वर्ष के कार्यकाल की सराहना की गई है। ऐसे में दो नेताओं की जंग में अब पूरी कांग्रेस पार्टी गुटों में बंटी साफ नजर आ रही है।

सोमवार को वीरभद्र के समर्थन में 11 विधायकों के आने के बाद मंगलवार को पूर्व प्रदेशाध्यक्ष विद्या स्टोक्स, विप्लव ठाकुर, कौल सिंह ठाकुर, कुलदीप कुमार, पूर्व सांसद चौधरी चंद्र कुमार, विधायक रामलाल ठाकुर, हर्षवर्धन चौहान, लख¨वद्र राणा, सुंदर ठाकुर, सतपाल रायजादा, आइसीसी सचिव राजेश धर्माणी, राकेश कालिया, पूर्व सीपीएस सोहन लाल, पूर्व विधायक अजय महाजन, किशोरी लाल, रवि ठाकुर और पूर्व युवा कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह पठानिया ने कहा है कि बतौर अध्यक्ष सुक्खू का कार्यकाल सराहनीय रहा है।

इस दौरान कांग्रेस पार्टी वास्तव में धरातल पर मजबूत हुई है। सुक्खू के कार्यकाल में युवाओं को उचित जिम्मेदारी के साथ अनुभवी नेताओं को तवज्जो मिली। सुक्खू को पद से हटाया नहीं गया, वह चार माह पहले ही राष्ट्रीय अध्यक्ष को इस्तीफे की पेशकश कर चुके थे। बदलाव एक सहज प्रक्रिया है। उन्होंने हर नेता व उनसे जुड़े कार्यकर्ताओं को संयम बरतने के साथ ही कोई भी बयान सोच समझकर देने की सलाह दी है। कहा कि सूक्खू ने संगठन में नई जान फूंकी है। भाजपा के हर जनविरोधी कदम पर सभी विधायकों को साथ लेकर प्रदर्शन किए गए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस