राज्य ब्यूरो, शिमला : पड़ोसी देश नेपाल के साथ भले ही रिश्तों में हल्की खटास पैदा हो रही है, लेकिन हिमाचल प्रदेश में सेब अर्थव्यवस्था के लिए अहम भूमिका निभाने वाले नेपाली मूल के लोग संभवत लौट आएंगे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का कहना है कि नेपाली मूल के लोगों को काम पर लाने के लिए केंद्र सरकार ने परिवहन सुविधा की बात कही है।

शिमला स्थित राज्य सचिवालय में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों से लौटने वालों के लिए अलग से व्यवस्था नहीं करेगी, क्योंकि समूचे देश में रेल और परिवहन व्यवस्था शुरू हो चुकी है। ऐसे में राज्य

में वापस आने वाले लोगों को स्वयं व्यवस्था करनी होगी। मुख्यमंत्री जयराम

ठाकुर ने कहा कि जब तक देश के अधिकाश राज्यों में परिवहन व्यवस्था ठप थी। उस समय सरकार ने रेल और बस सेवा का प्रबंध कर हजारों लोगों को राज्य में लाया था।

रेड जोन से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन सेंटर में भेजा जाएगा। जबकि ऑरेंज व ग्रीन जोन से आने वाले लोगों को होम क्वारंटाइन होना पड़ेगा। सामान्य तौर पर बजट के बाद प्रशासनिक फेरबदल होता है, लेकिन इस बार बजट सत्र के बाद कोरोना संकट शुरू हो गया था। जिसके परिणाम स्वरुप तबादले नहीं हो सके थे। ये तबादले सामान्य प्रशासनिक फेरबदल है। उन्होंने कहा कि उद्योगों में 70 फीसद उत्पादन शुरू हो गया है। उद्योगों के पास उपलब्ध श्रमिकों को काम पर आने की इजाजत दे दी गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस