संवाद सूत्र, कुमारसैन : पंचायत भवन कुमारसैन में रविवार को कृषि विभाग आतमा प्रोजेक्ट की ओर से किसान जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान कृषि विभाग के नारकंडा से आए विषयवाद विशेषज्ञ कृषि डॉ. चमन लाल ने मौजूद महिलाओं और किसानों को खेती में कीटनाशकों और रासायनिक खाद के अत्याधिक प्रयोग को घातक बताया और जीरो बजट प्राकृतिक खेती करने के लिए प्रेरित किया। कीटनाशकों के प्रयोग से जहा पानी और पर्यावरण प्रदूषित होता है वहीं मानव स्वास्थ्य पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। इनके साथ आतमा प्रोजेक्ट के असिस्टेंट टेक्नोलॉजी मैनेजर प्रवीण कुमार भी मौजूद थे।

डॉ. चमन लाल ने बताया कि पौधों के लिए लगभग 98 प्रतिशत पोषक तत्व मिट्टी में ही मौजूद होते हैं, जबकि डेढ़ से दो प्रतिशत तत्वों के लिए खेती में अत्याधिक कीटनाशक दवाओं और स्प्रे का प्रयोग नुकसानदेह है। प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए बीजामृत बनाने की विधि भी बताई।

इस दौरान शॉर्ट फिल्म के माध्यम से किसानों को कीटनाशक और रासायनिक खाद के दुष्प्रभावों की जानकारी दी। जागरूकता शिविर में कुमारसैन पंचायत के प्रधान नरेंद्र कुमार, बीडीसी सदस्य सुमना देवी, सिलाई अध्यापिका ज्योति श्याम, जार पंचायत की प्रधान आरती निरमोही, कुमारसैन बाजार की वार्ड सदस्य शाति देवी आदि मौजूद रहीं।

Posted By: Jagran