राज्य ब्यूरो, शिमला : शिक्षा सचिव की लताड़ के बाद उच्च शिक्षा विभाग भी नींद से जाग गया है। पोक्सो अधिनियम के तहत जिन शिक्षकों पर आरोप लगे हैं और उनके खिलाफ विभागीय जांच चल रही है, उनका तबादला कर दिया जाएगा। उच्च शिक्षा विभाग ने उपनिदेशकों से ऐसे शिक्षकों का पूरा ब्योरा मांगा है।

उपनिदेशकों को निर्देश दिए गए हैं कि इन मामलों में प्राथमिकी दर्ज करवाते समय निवेदन किया जाए कि एफआइआर आइपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र) के तहत ही दर्ज की जाए। शिक्षा सचिव के निर्देशों के बाद बुधवार को सभी शिक्षा उपनिदेशकों व कॉलेजों के प्राचार्यो को जिन शिक्षकों और गैर शिक्षकों पर आपराधिक मामलों की विभागीय जांच चल रही थी, उनमें उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाने निर्देश जारी कर दिए गए हैं। शिक्षा निदेशालय ने इसकी रिपोर्ट 15 जून को मांगी है। इसके अलावा शिक्षा विभाग में चल रही प्राथमिक जांचों को भी 20 जून तक पूरी कर इसकी रिपोर्ट सौंपने को कहा है।

शिक्षा सचिव डॉ. अरुण शर्मा ने शिक्षा विभाग में लंबित जांचों को लेकर कई सवाल खड़े किए थे। उन्होंने जांच अधिकारियों की प्रणाली पर संदेह जताया था। अब इसके बाद उच्च शिक्षा निदेशक डॉ. अमरदेव भी हरकत में आए और जांच अधिकारियों को निर्देश जारी कर दिए हैं।

By Jagran