जागरण संवाददाता, शिमला : अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकत्र्ताओं ने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला में कुलपति की गाड़ी को रोककर प्रदर्शन किया। इस दौरान कुलपति दो घंटे तक वाहन में ही रहे। इस दौरान क्यूआरटी व पुलिस बल तैनात करना पड़ा। पुलिस कर्मचारियों व कार्यकत्र्ताओं के बीच धक्का-मुक्की भी हुई।

विश्वविद्यालय एबीवीपी इकाई के अध्यक्ष विशाल वर्मा ने आरोप लगाया कि कोरोना की आड़ में प्रदेश विश्वविद्यालय प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से भागता हुआ नजर आ रहा है। विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। प्रवेश परीक्षा की जगह मेरिट के आधार पर पीजी कक्षाओं में दाखिले की बात कही है। इसका परिषद विरोध करती है। परिषद ने पहले भी ज्ञापन के माध्यम से मांगों को रखा था, परिसर में मूक प्रदर्शन कर और प्रदर्शन कर विरोध व्यक्त किया था। विशाल ने कहा कि शनिवार सुबह से लेकर शाम तक कार्यकत्र्ता कुलपति से मिलने की मांग करते रहे। सुबह भी कुलपति कार्यकत्र्ताओं को नजरअंदाज करते हुए करीब दो घंटे तक गाड़ी से बाहर नहीं उतरे। इस दौरान अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकत्र्ता गाड़ी के आगे खड़े होकर नारेबाजी करते रहे।

विशाल वर्मा ने आरोप लगाया कि कार्यकत्र्ताओं ने कुलपति से मिलने का प्रयास किया तो पुलिस के धक्का-मुक्की में कई कार्यकत्र्ताओं को चोटें लगी हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस