चीड़, राई व कायल की लकड़ी खरीदने पहुंचे पंजाब व हरियाणा से व्यापारी

दो माह बाद हुई नीलामी, लोगों व फर्नीचर कारोबारियों को राहत, प्लाई व बोर्ड बनाने में होता है चीड़, राई व कायल की लकड़ी का इस्तेमाल

हंसराज सैनी, मंडी

क‌र्फ्यू ढील मिलते ही वन निगम ने करीब 2.35 करोड़ रुपये की लकड़ी बेची है। इससे निगम को बड़ी राहत मिली है। क‌र्फ्यू के कारण दो माह से लकड़ी की नीलामी नहीं हुई थी। अब नीलामी होने से घर का निर्माण कर रहे लोगों व फर्नीचर कारोबारियों ने राहत की सांस ली है। चीड़, राई व कायल की लकड़ी खरीदने के लिए पंजाब व हरियाणा से व्यापारी आए थे।

वन निगम ने मंडी जिले के धनोटू डिपो से राई, चीड़ व कायल की करीब 1360 क्यूबिक मीटर लकड़ी 1.95 करोड़ रुपये में बेची है। यहां लड़की की बिक्री नीलामी से होती है। बिलासपुर जिले के स्वारघाट डिपो में सिर्फ चीड़ की लकड़ी होती है। 401 क्यूबिक मीटर लकड़ी करीब 40 लाख रुपये में बिकी है। लकड़ी न मिलने से प्लाई उद्योगों, फर्नीचर कारोबारियों का काम पूरी तरह से बंद था। स्वारघाट डिपो में बिलासपुर, हमीरपुर व सोलन जिले के जंगलों से निकलने वाली चीड़ की लकड़ी का भंडारण होता है। धनोटू डिपो में मंडी व कुल्लू जिले के जंगलों से लकड़ी आती है।

देवदार की लकड़ी के लिए करना होगा इंतजार

फर्नीचर कारोबारियों व लोगों को देवदार की लकड़ी के लिए अभी इंतजार करना होगा। धनोटू डिपो में बड़ी मात्रा में देवदार की लकड़ी की मांग रहती है। यहां फॉरेस्ट वर्किंग डिपो कुल्लू, चंबा के पांगी, मंडी के सराज व करसोग क्षेत्र से देवदार की लकड़ी की सप्लाई होती है। मार्किंग न होने से लकड़ी की ढुलाई का काम अधर में लटका हुआ है। क‌र्फ्यू हटने के बाद अब मार्किंग का काम युद्धस्तर पर पूरा होने की उम्मीद बंधी है। धनोटू डिपो से लोग भी गृह निर्माण के लिए बड़े पैमाने पर देवदार की लकड़ी नीलामी से खरीदते हैं। यहां मिलने वाली लकड़ी की क्वालिटी अच्छी होती है।

---------

क‌र्फ्यू के कारण लकड़ी की नीलामी नहीं हो रही थी। क‌र्फ्यू ढील मिलते ही ही धनोटू व स्वारघाट डिपो से करीब 2.35 करोड़ रुपये की लकड़ी नीलामी प्रक्रिया के माध्यम से बेची गई है। मार्किंग न होने से देवदार की लकड़ी उपलब्ध नहीं है।

-एसएस चंदेल, मंडलीय प्रबंधक धनोटू डिपो

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस