जागरण संवाददाता, मंडी : चुनाव विभाग ने मंडी जिले के दस हलकों में विधानसभा चुनाव की तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है। करीब 2200 इलेक्ट्रानिक वोटिग मशीन (ईवीएम) व वीवीपैट की प्रथम स्तरीय जांच (एफएलएस) का काम पूरा हो गया है। विधानसभा चुनाव में उपचुनाव की तरह एम-3ईवीएम का प्रयोग होगा। आधुनिक तकनीक से लैस इन मशीनों से छेड़छाड़ करना संभव नहीं है। छेड़छाड़ करने की सूरत में मशीन स्वचालित तरीके से लाक हो जाती है।

प्रशासन ने 10 हलकों में मतदान केंद्रों को अंतिम रूप दे दिया है। सात हलकों में 35 नए मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इससे जिले में कुल मतदान केंद्रों की संख्या 1190 हो गई है। पहले यह संख्या 1155 थी। सुंदरनगर हलके में चार, करसोग तीन, नाचन सात, सराज आठ, धर्मपुर पांच, सदर तीन व बल्ह विधानसभा क्षेत्र में पांच नए मतदान केंद्र बनाए गए हैं। हर मतदान केंद्र में सुविधा जांची जा रही है, जिस मतदान केंद्र में कोई कमी है उसे दूर करने के निर्देश दिए गए हैं। मतदाता सूची को भी अंतिम रूप दिया जा रहा है। 14 अगस्त को सभी हलकों की मतदाता सूची प्रकाशित होगी। मतदाता सूचियों का पुनर्निरीक्षण 16 अगस्त से होगा। जिला निर्वाचन अधिकारी इसके लिए सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे। मंडी संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव की तरह विधानसभा चुनाव में भी वरिष्ठजन व दिव्यांगजन अपने घर में मतदान कर सकेंगे। यह उनकी स्वेच्छा पर निर्भर रहेगा। पहली अक्टूबर को 18 साल के होने वाले युवा भी इस बार विधानसभा चुनाव में मतदान कर सकेंगे। उन्हें मतदाता सूची में अपना नाम दर्ज करवाना होगा।

जिले में मतदान केंद्रों को अंतिम रूप दे दिया गया है। सात हलकों में 35 नए मतदान केंद्र बनाए हैं। ईवीएम व वीवीपैट की प्रथम स्तरीय जांच का काम पूरा कर लिया गया है।

-अरिदम चौधरी, निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त मंडी। ये होंगे मतदान केंद्र

विधानसभा क्षेत्र,मतदान केंद्र

करसोग,110

सुंदरनगर,113

नाचन,126

सराज,145

द्रंग,132

जोगेंद्रनगर,131

धर्मपुर,107

सदर,111

बल्ह,105

सरकाघाट,110

नोट : चुनाव विभाग ने 17 मतदान केंद्रों के भवनों में बदलाव किया है। इनकेंद्रों के भवनों की हालत दयनीय हो चुकी थी।

Edited By: Jagran