संवाद सहयोगी, जोगेंद्रनगर : मंडी जिला के जोगेंद्रनगर में निजी बस ऑपरेटर्स की हड़ताल से यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। परिवहन निगम द्वारा अतिरिक्त बसें चलाने बाद भी यात्रियों को सफर के दौरान खूब धक्के खाने पड़े। आलम यह था कि परिवहन निगम की 45 सीटर बसों में 60 से अधिक सवारियां सफर करने को मजबूर हुई। बसों में यात्रियों को पैर रखने तक की भी जगह नहीं दिख रही थी। हालांकि यात्रियों को निगम की बसों में उचित सुविधा दिलाने में परिवहन निगम के अधिकारी एवं कर्मचारी मुस्तैद दिखे लेकिन यात्रियों की बेतहाशा भीड़ के आगे परिवहन निगम के प्रबंध भी खोखले साबित हुए। क्षेत्र के अधिकतर बस स्टॉप पर सवारियां बसों के इंतजार में दिखीं मगर निजी बसें न होने के चलते सरकारी बसों में ओवरलोडिंग होती भी साफ नजर आई। स्थानीय अड्डा प्रबंधन के अनुसार मंगलवार को भी 20 से अधिक रूटों पर परिवहन निगम की बसों को यात्रियों की सुविधा के लिए रवाना किया गया है। जबकि अतिरिक्त रूटों पर बसों की आवाजाही देर रात तक जारी रही। परिवहन निगम बैजनाथ डिपो के क्षेत्रीय प्रबंधक कुलदीप ठाकुर के अनुसार मंगलवार को भी जोगेंद्रनगर बस अड्डे से 20 से अधिक रूटों पर परिवहन निगम की अतिरिक्त बसें दौड़ाई गई।

Posted By: Jagran