संवाद सहयोगी, सरकाघाट : उपमंडल सरकाघाट की ग्राम पंचायत परसदा हवाणी के गांव गदयाड़ा के लोग आज भी सड़क सुविधा से महरूम है। इससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बीमार अथवा अन्य आपातकाल में पीड़ित को पीठ या पालकी में उठाकर करीब एक किलोमीटर ऊबड़-खाबड़ रास्ते से मुख्य सड़क तक पहुंचाना पड़ता है।

बरसात तथा रात के समय चलना जोखिम भरा रहता है। वार्ड सदस्य मीरा देवी, पूर्व वार्ड सदस्य निशा देवी, कांता देवी राजो देवी, राजकुमार, मंजू देवी, अनू कुमारी, सरिता, अनुपमा और कैप्टन जोध सिंह आदि ने बताया कि पंचायत प्रधान से लेकर विभाग व विधायक तक वह मांग रख चुके हैं लेकिन सड़क तो दूर रास्ते का भी सही तरीके से निर्माण नहीं हो पाया है। चार साल पहले गदयाड़ा का 38 वर्षीय सुनील कुमार बदी में दुर्घटना का शिकार होने से अपनी दोनों टांगे खो चुका है उसे महीने में तीन या चार बार अस्पताल ले जाना पड़ता है लेकिन सड़क न होने से सुनील कुमार को जहां रास्ता ठीक है वहां तक व्हील चेयर पर बैठाकर और जहां रास्ता ठीक नहीं है वहां हाथोंहाथ और कहीं पर पीठ पर उठाकर मुख्य सड़क तक पहुंचाना पड़ता है। प्रशासन से मांग की है कि सरकाघाट रिस्सा मार्ग नौणू नरोट से गदयाड़ा तक पक्की सड़क का निर्माण किया जाए।

पंचायत प्रधान सुनीता कुमारी का कहना है कि गदयाड़ा के लिए सड़क लोगों की जरूरत है । पंचायत अपने स्तर पर सड़क निकालने के लिए प्रयास कर रही है। लोक निर्माण विभाग के अधिशाषी अभियंता विनोद शर्मा का कहना है कि गांव को मुख्य सड़क से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Jagran