सहयोगी, गोहर : ईमानदारी अभी भी जिंदा है। इसकी ताजा मिसाल गोहर उपमंडल की गोहर-बाहवा वार्ड से पंचायत समिति सदस्य मंजु कुमारी ने पेश की है। मंजु को जोनल अस्पताल मंडी में संपत्ति के कागजात से भरा बैग लावारिस हालत में मिला। बैग में कैश तो नहीं था मगर बैंक पासबुक, एटीएम कार्ड पिन कोड सहित, एक मोबाइल फोन व टॉर्च जैसी अहम वस्तुएं थीं। उन्होंने अस्पताल में बैग मालिक की तालाश की मगर मालिक का कोई भी अता-पता नहीं चल पाया। बैग मालिक की पहचान जोध ¨सह पुत्र स्वर्गीय संतराम गांव संदोह डाकघर बाइरा, तहसील कोटली, जिला मंडी के रूप में हुई है। सबसे पहले उन्होंने बैग में एक पर्ची में लिखे मोबाइल फोन नंबर पर फोन कर एक सप्ताह के बाद बैग मालिक का पता लगाया। बैग मालिक लोक निर्माण विभाग से सेवानिवृत्त हुआ है। वह अपने सभी मूल दस्तावेजों सहित जोनल अस्पताल में अपनी पत्नी के इलाज के लिए आया था। बैग मालिक जोध ¨सह की पत्नी को अधरंग का अटैक पड़ा हुआ था। मंजु ने एक सप्ताह बाद बैग मालिक जोध ¨सह को गोहर में सौंप दिया। जोध ¨सह ने बताया बैग में उनके जरूरी दस्तावेज थे, जिनमें खासकर एटीएम कार्ड जोकि पिन कोड सहित था। जिस खाता नंबर का एटीएम था उस खाते में लगभग 12 लाख रुपये जमा थे।

Posted By: Jagran