संवाद सहयोगी, सुंदरनगर : दि मंडी जिला प्राइवेट बस ऑपरेटर यूनियन की बैठक रविवार को सुंदरनगर में अध्यक्ष वीरेंद्र ¨सह गुलेरिया की अध्यक्षता में हुई। इसमें 10 सितंबर की होने जा रही हड़ताल का यूनियन ने पूरा समर्थन किया। अध्यक्ष ने कहा ऑपरेटरों ने बैंक से कर्ज लेकर बसें डाली हैं और अगर प्रदेश सरकार का रवैया यूं ही रहा तो बस ऑपरेटर आत्महत्या करने को मजबूर हो जाएगा। उन्होंने चेताया कि अगर उनकी समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो आने वाले लोकसभा चुनाव में दि मंडी जिला प्राइवेट बस ऑपरेटर यूनियन पूरी तरह से चुनाव का बहिष्कार करेगी।

उन्होंने कहा कि पहले भी ऑपरेटरों की मांगों को नहीं माना गया है और उनकी अनदेखी की गई है। इस बात का खामियाजा पूर्व की कांग्रेस सरकार भुगत रही है और अगर वर्तमान सरकार ने भी अपना रवैया बस ऑपरेटरों के प्रति यूं ही रखा तो आने वाले लोकसभा चुनाव में भी उनको ऑपरेटर यूनियन आइना दिखाने में कोई कमी नहीं छोड़ेगी। आज डीजल 72.52 रुपये हैं और किराया वही 2013 का है। आज हमारा किराया 1.45 रुपये प्रति किलोमीटर है।

उन्होंने कहा कि यूनियन मांग कर रही है कि ग्रीन टैक्स बंद किया जाए, न्यूनतम किराया 10 रुपये हो और वर्तमान किराये पर 50 फीसद की बढ़ोतरी हो। उन्होंने कहा कि सड़कों की हालत भी दयनीय है। इसके बाद बस अड्डों पर पर्ची में अड्डा फीस में भी आत्यधिक बढ़ोतरी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि इस हड़ताल की पूरी जिम्मेदारी सरकार की है।

बैठक में चेयरमैन एनआर चौहान, सचिव भूपेंद्र रावत, कैशियर विनोद रावत, रूपलाल, महेंद्र पाल, महेंद्र कुमार, जसवंत कुमार, नरेश राघवा, दिनेश चौधरी, गुलशन कुमार समेत अन्य मौजूद रहे।

Posted By: Jagran