संवाद सहयोगी, सुंदरनगर : परिवहन एवं वनमंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा प्रदेश में एचआरटीसी की तर्ज पर निजी बसों में भी इलेक्ट्रॉनिक टिक¨टग मशीन से टिकट काटने का प्रावधान किया जाएगा। प्रदेश सरकार इस व्यवस्था को लागू करने जा रही है, ताकि बस किराये में निजी बस ऑपरेटरों की मनमर्जी न चल सके।

बुधवार को सुंदरनगर में पत्रकार वार्ता में कहा भाजपा सरकार के कार्यकाल में हर वर्ग की समस्याओं का समाधान समय पर किया जा रहा है। निजी बस ऑपरेटर लंबे समय से किराया बढ़ोतरी की मांग करते आ रहे थे। बस ऑपरेटरों ने अपनी मांगो को सरकार के समक्ष रखा। पूर्व की कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में कई ऐसे निर्णय लिए गए, जिनके कारण निगम को पूरी तरह घाटे में डाल दिया गया। वर्ष 2013 से पूर्व एचआरटीसी बसों की खरीद को लेकर किसी तरह का कोई लोन नहीं लिया जाता था लेकिन पूर्व कांग्रेस सरकार ने 270 करोड़ का लोन लेकर 1275 बसों की खरीद कर डाली। उससे पूर्व एक बस प्रतिदिन औसतन 230 किलोमीटर चलती थी, लेकिन इन बसों के आने के बाद यह औसत घटकर 180 किलोमीटर रह गई लेकिन भाजपा सरकार के सत्ता में आते ही इस औसत को दोबारा बढ़ाकर 195 किलोमीटर तक पहुंचाया गया है। प्रदेश सरकार के महज सात माह के कार्यकाल में 34 से 35 करोड़ का अतिरिक्त राजस्व निगम ने पिछली सरकार के मुकाबले अधिक कमाया है। एचआरटीसी को घाटे से उबारने के लिए कई अहम निर्णय लिए जा रहे हैं।

Posted By: Jagran