संवाद सहयोगी, मंडी : मंडी के सरस्वती विद्या मंदिर परिसर में रिदम नाट्य रंग महोत्सव की प्रथम नाट्य संध्या में नाटकों और नृत्य की बेहतरीन प्रस्तुतियां दी गई। कार्यक्रम का आयोजन नव ज्योति खेलकूद एवं सांस्कृतिक कला मंच मंडी और भाषा एवं संस्कृति विभाग के साझा प्रयास से हुआ।

इसमें नव ज्योति खेलकूद एवं सांस्कृतिक कला मंच की ओर से दो नाटकों ठग ठगे गए और कथाकार संपादक प्रेम भारद्वाज द्वारा लिखित कहानी मकतल पर रहम कर पर आधारित नाटक के अलावा संगीत सदन की नन्हीं कलाकारों ने बेहतरीन नृत्य प्रस्तुति दी।

जिला भाषा अधिकारी रेवती सैनी ने कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। नव ज्योति कला मंच के साथ मिलकर भाषा विभाग की ओर से रंग नाट्य कार्यशाला का आयोजन किया गया। रिदम जो नव ज्योति कला मंच की बेहतरीन कलाकार थी। उसकी स्मृति में यह रंग महोत्सव आयोजित किया जा रहा है।

रंगमहोत्सव की प्रथम संध्या की पहली प्रस्तुति मशहूर नाट्य निदेशक इंद्रराज इंदू निर्देशित हास्य नाटक ठगे गए ठग में अंधविश्वास पर करारा प्रहार किया गया। वहीं संगीत सदन की छात्राओं ने ईशा डोगरा के निर्देशन में बेहतरीन नृत्य प्रस्तुति दी। इसके बाद इंद्रराज इंदू के निर्देशन में प्रेम भारद्वाज द्वारा लिखित कहानी पर आधारित नाटक की लाजवाब प्रस्तुति नव ज्योति कला मंच के कलाकारों ने दी। यह नाटक एक अति महत्वकांक्षी युवक की कहानी पर आधारित है। इसमें वह चांद को तोड़कर निचोड़ना चाहता है। जिसके चलते वह गलत रास्ते पर चल पड़ता है और उसे फांसी की सजा दी जाती है। इस नाटक में सूत्रधार की भूमिका कार्तिक, बड़े बेटे की भूमिका में पवन कुमार, छोटा बेटा राजा, मां की भूमिका में ललिता बांगिया, प्रेमिका के रोल में नूतन, बेटी के रूप में स्नेहा, जेलर, देवा, गुब्बारे वाला मेघ सिंह मन्नु, सरगना तिलक और जल्लाद के रोल में विशाल ने अपने-अपने किरदार निभाए। नाटक का सह निर्देशन जय कुमार जैक, संगीत पक्ष, प्रकाश व्यवस्था पीआर स्वामी, ध्वनि पवन कुमार, मंच सज्जा प्रकाश, मुख्य सज्जा कार्तिक, मंच सामग्री रितू, प्रचार-प्रसार हरदेव व विशाल की रही। इस अवसर पर डा. धर्मपाल कपूर, रूपेश्वरी शर्मा, हरिप्रिया शर्मा व अन्य नाट्य प्रेमी मौजूद थे।

Posted By: Jagran