जागरण संवाददाता, मनाली : सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण मनाली-लेह मार्ग पर अगले वर्ष सैलानी सुहाने सफर का आनंद ले सकेंगे। बीआरओ दीपक परियोजना की 70 आरसीसी की ओर से 476 किमी लंबे मनाली-लेह मार्ग पर दारचा नदी में 360 मीटर लंबे पुल का निर्माण किया जा रहा है।

मनाली-लेह मार्ग पर पलचान, कोठी, कोकसर-एक, कोकसर-दो सहित करीब छह पुल तैयार कर लिए गए हैं, जबकि कोठी-दो, ब्यासपुल, कमांडर नाला पुल सहित दारचा नदी पर पुलों का निर्माण कार्य जारी है। बीआरओ इस मार्ग पर सफर को आरामदायक बनाने में जुटा हुआ है। बीआरओ की माने तो इस सड़क का 80 फीसद कार्य पूरा कर लिया गया है, जबकि अगले साल रोहतांग सुरंग सहित मार्ग चकाचक कर देश को समर्पित कर दिया जाएगा।

रोहतांग सुरंग भी अगले साल बनकर तैयार हो रही है। अब लेह के दीदार करने आने वाले सैलानियों को दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा।

-----

10 घंटे में होगा 15 घंटे का सफर :

रोहतांग सुरंग के बनने से 48 किलोमीटर जोखिमभरा सफर कम हो जाएगा। साथ ही सफर भी आरामदायक हो जाएगा। वर्तमान में मनाली से लेह पहुंचने में 14 से 15 घंटे का समय लग रहा है। लेकिन अगले साल मनाली-लेह मार्ग के चकाचक हो जाने और रोहतांग सुंरग के बनने से यह सफर नौ से 10 घंटे का ही रह जाएगा।

------

दो भागों में हो रहा काम :

मनाली से सरचू तक 222 किलोमीटर सड़क को बीआरओ की दीपक परियोजना तैयार कर रही है, जबकि सरचू से लेह तक बीआरओ की हिमांक परियोजना कार्य में जुटी है। सड़क का 80 फीसद कार्य पूरा कर लिया गया है। मार्ग के अधिकतर पुलों को भी तैयार कर लिया गया है। सभी परिस्थितियां ठीक रही तो बीआरओ अगले साल मनाली लेह मार्ग को चकाचक कर देगा। सैलानी भी सुहाने सफर का आनंद उठा सकेंगे।

Posted By: Jagran