संवाद सहयोगी, मंडी : अनलॉक-वन के तहत सरकार ने प्रदेश के भीतर परिवहन सेवा बहाल करने की अनुमति तो दे दी है, लेकिन लोगों ने अभी बसों से दूरी ही बनाकर रखी है। मंडी, सुंदरनगर, सरकाघाट, कुल्लू और केलंग में हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) को एक दिन में 304 बसों से डेढ़ लाख रुपये कैश कलेक्शन हुई है। हालांकि इन सभी डिपो में एचआरटीसी की एक दिन में कैश कलेक्शन 50 लाख रुपये से अधिक थी।

केलंग डिपो में 42, सरकाघाट 55, सुंदरनगर 70, मंडी 75 और कुल्लू में 62 बसें विभिन्न रूटों पर चल रही हैं। सभी बसें 10669 किलोमीटर चली। 146 जगह से निगम ने कैश कलेक्ट कर लिया है। कुछ स्थानों से कैश आना शेष है। सोमवार को पहले दिन सवारियों का आवागमन कम रहा है। बसों के तेल का किराया भी पूरा नहीं हो पाया है। कुल्लू डिपो में एक दिन में 6 हजार 165 रुपये कैश कलेक्ट हुआ। पहले यहां पर प्रतिदिन 14 लाख रुपये से अधिक कैश एकत्र होता था। सुंदरनगर डिपो भी 14 हजार 169 रुपये ही कमा पाया। यहां भी करीब एक दिन में 6 लाख रुपये की आमदनी होती थी। कोरोना से बचाव को लेकर सवारियों ने बसों में सफर करने से परहेज किया है। केलंग डिपो एक दिन में 15 हजार 207 रुपये ही कमा पाया है। मंडी डिपो की बात करें तो यहां पर 29 हजार 247 रुपये की आय हुई, जबकि क‌र्फ्यू से पहले यहां पर एक दिन में आठ लाख रुपये का लाभ निगम को होता था। हालांकि सरकाघाट डिपो में 79 हजार 990 रुपये की आमदनी हुई है।

........

मंडी, सुंदरनगर, सरकाघाट, कुल्लू और केलंग से एचआरटीसी को एक दिन में 1.44 लाख की कैश कलेक्शन हुई है। इन सभी स्थानों से करीब 50 लाख रुपये की आमदनी निगम को होती थी। बसों के तेल का किराया भी पूरा नहीं हुआ है। कोरोना के कारण सवारियों की संख्या कम है।

-अमरनाथ सलारिया, डीएम एचआरटीसी मंडी मंडल।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस