जागरण संवाददाता, मंडी : बेशक आसमान से कुछ दिन से मेघ बरस रहे हैं, लेकिन ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में पेयजल संकट की बानगी यह है कि गर्मी शुरू होते ही भूजल स्तर में गिरावट के कारण पानी की किल्लत शुरू हो गई है। जिला के कई क्षेत्र में कहीं पेयजल संकट, तो कहीं लोग दूषित पानी की आपूर्ति से परेशान हैं। आलम यह है कि कई क्षेत्रों में लोगों को नदी-नालों के पानी से काम चलना पड़ रहा है। कुछ ऐसे भी क्षेत्र हैं, जहां ¨सचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग के नलों में कई माह से पानी की बूंद तक नहीं टपकी है। द्रंग हलके के भूस्खलन प्रभावित कोटरोपी के सास्ती गांव में दो माह से पेयजल संकट बना हुआ है। 25 परिवार पानी की एक-एक बूंद को तरस रहे हैं। लोग नाले का पानी पीने को विवश हैं।

शहर के साथ लगती दो अंब कॉलोनी में लोगों को दिन में मात्र पांच से दस मिनट पानी मिल रहा है। पेयजल संकट से जूझ रहे लोगों ने मुख्य अभियंता (आइपीएच) नवीन पुरी व अधिशाषी अभियंता अरुण शर्मा को हेलो जागरण कार्यक्रम के दौरान अपनी समस्याएं बताई। नवीन पुरी ने वीरवार को दैनिक जागरण कार्यालय मंडी में हेलो जागरण कार्यक्रम के तहत लोगों की समस्याएं सुनी व उनका जल्द समाधान करने का आश्वासन दिया। इस दौरान जिला के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने दैनिक जागरण कार्यालय में दूरभाष पर उनसे बात की और पेयजल, सीवरेज व ¨सचाई योजना से संबंधित समस्याओं को उठाया।

बल्ह हलके के बैहना के प्रेम ¨सह राठौर ने बताया कि उन्होंने पंप हाउस निर्माण के लिए भूमि दान दी थी। पंप हाउस बनकर तैयार हो गया है। लेकिन उसमें मशीनरी स्थापित न होने से लोगों को उसका फायदा नहीं मिल रहा है। बल्ह वैली मध्यम ¨सचाई योजना का पानी रोपा व मलौरी आदि गांव में नहीं पहुंच रहा है, इससे किसानों को ¨सचाई की उचित सुविधा नहीं मिल रही है।

कोटली के अनंत राम का कहना था कि फिल्टर टैंक की कोई उचित व्यवस्था न होने से विभाग सीधा नाले की पानी की आपूर्ति कर रहा है, इससे यहां जलजनित बीमारियां फैलने का खतरा मंडरा रहा है। पट्डीघाट के रवि कुमार व मनोज कुमार ने बताया कि यहां विभाग ने करीब एक साल पहले टैंक का निर्माण किया था। लेकिन उसका अब तक कोई उपयोग नहीं हो रहा है।

चैलचौक के सुरेश कुमार ने दूषित पानी की आपूर्ति होने की समस्या बताई। टिक्करी मुशैहरा पंचायत के उधम ¨सह ने क्षेत्र में फिल्टर टैंक की उचित व्यवस्था न होने से नाले से सीधे पानी की सप्लाई देने का आरोप लगाया। सास्ती गांव की सीता देवी का कहना था कि गांव में लगे नलों में करीब दो माह से पानी नहीं आ रहा है। लोग यहां नाले का पानी पीने को विवश हैं।

कुफरी पंचायत के ओमप्रकाश ने उठाऊ पेयजल योजना लुणी खड्ड को शीघ्र शुरू करने की मांग की। सराज हलके के चाकूधार के हेम ¨सह ठाकुर ने बताया उनके गांव में छह माह से पेयजल की सप्लाई नहीं हो रही है, इससे लोगों को अपनी दिनचर्या निपटाने में दिक्कतें आ रही हैं। खेम ¨सह ठाकुर ने तरनोह गांव में पेयजल संकट से अवगत करवाया।

जोगेंद्रनगर के डॉ. चंद्रभूषण ने उनके घर के साथ गुजरने वाली कूहल में सीवरेज का रिसाव मिलने की समस्या बताई। भंगरोटू के दिनेश कुमार ने नगर परिषद की वार्ड आठ में लंबित पेयजल योजना का कार्य जल्द पूरा करवाने की मांग की। बरस्वाण के देवेंद्र कुमार ने फतेहपुर व पनयाली गांव में पेयजल संकट से अवगत करवाया।

जोगेंद्रनगर के ओंकार चंद सूद ने बताया कि बालकरूपी क्षेत्र में पानी की अनियमित आपूर्ति हो रही है। चुक्कू पंचायत के उपप्रधान कृष्ण कुमार ने स्टोर व फिल्टर टैंक के अभाव में नाले से सीधे पेयजल की सप्लाई करने का आरोप लगाया। ढलवाण पंचायत के सुनील ठाकुर ने ढलवाण घरवासडा पेयजल योजना में फिल्टर टैंक की व्यवस्था करने की मांग रखी। कैहनवाल गांव की युक्ति पठानिया ने बताया कि गांव में 15-15 दिन बाद पेयजल की आपूर्ति हो रही है। कुन्नू पंचायत के प्रधान प्रेम ¨सह ने कंदरयाला गांव में पेयजल संकट की समस्या से अवगत करवाते हुए कहा कि नलों में पानी की सप्लाई न आने से लोग यहां नाले का पानी पी रहे हैं।

नलसर के श्याम लाल ने भी पेयजल की सप्लाई नियमित न होने का दुखड़ा सुनाया। थाची के ओत राम ने गांव में कई दिन से पानी की आपूर्ति न होने का आरोप लगाया। राकेश कुमार बताया कि तांदी में कई दिन से पानी की अनियमित आपूर्ति हो रही है।

-----

अधिकारी को मौके पर जाने के निर्देश :

दो अंब कॉलोनी के रमेश कुमार, हरवंश ठाकुर, लीला पराशर व माया देवी ने कॉलोनी में कई दिनों से पेयजल की नियमित सप्लाई न होने की समस्या बताई। मुख्य अभियंता ने समस्या सुनने के तुंरत बाद वहां कनिष्ठ अभियंता को मौके पर जाने के निर्देश दिए।

------

350 बीघा भूमि की नहीं हो रही सिंचाई :

बग्गी के यश¨वद्र यादव ने बताया कि घरवासडा के पास करीब एक साल पहले भूस्खलन हुआ था, इससे ¨सचाई योजना की पाइप क्षतिग्रस्त हो गई थी। ¨सचाई योजना से क्षेत्र की 350 बीघा भूमि ¨सचित होती है। शिकायत के बावजूद पाइप व कूहल की मरम्मत की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

------

शीघ्र किया जाएगा समाधान :

करीब एक घंटे तक चले इस कार्यक्रम में पेयजल संकट, सीवरेज व ¨सचाई से संबंधित समस्याएं दैनिक जागरण के पाठकों ने अधिकारियों को बताई। इस पर मुख्य अभियंता ने आश्वस्त किया शीघ्र ही समस्याओं का समाधान करवाया जाएगा।

-----

लोगों के नंबर किए नोट, संबंधित अधिकारी फोन कर पहुंचेंगे घर :

हेलो जागरण कार्यक्रम में पहली बार एक विभाग के दो अधिकारियों ने एक साथ लोगों की समस्याएं सुनी। समस्या बताने वाले पाठकों के मोबाइल नंबर नोट किए गए। नंबर संबंधित क्षेत्र के अधिकारियों को भेजे जाएंगे। कनिष्ठ अभियंता स्तर के अधिकारी समस्या बताने वालों से संपर्क करेंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप