जागरण संवाददाता, मंडी : मंत्री जी! बरसात तीन माह पहले समाप्त हो गई है, लेकिन सुकेती खड्ड पर अब तक पुलिया नहीं लग पाई है। सुंदरनगर, नाचन व बल्ह हलके की जनता को जान जोखिम में डालकर सुकेती खड्ड आर-पार करनी पड़ रही है। बीबीएमबी के अधिकारियों से पुलिया लगाने का आग्रह किया था, लेकिन अब तक कोई गौर नहीं हुआ है। जिला जनशिकायत निवारण समिति की बैठक में गैर सरकारी सदस्यों ने बीबीएमबी की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए।

सदस्यों का कहना था कि तीन माह पहले आयोजित बैठक में भी पुलियों का मामला उठाया था, लेकिन बीबीएमबी प्रबंधन नींद में है। बैठक की अध्यक्षता कर रहे आइपीएच मंत्री महेंद्र ¨सह ठाकुर ने बीबीएमबी के अधिकारियों को फटकार लगाते हुए एक माह के अंदर लोगों की समस्याओं का समाधान करने के निर्देश दिए। बैठक में सदस्यों ने बिजली, पानी व सड़क जैसी मूलभूत सुविधाओं के मामले उठाए। सड़कों व पुलों के बंद पड़े कार्यों को लेकर लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को जमकर घेरा। महेंद्र ¨सह ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को 15 दिनों में संयुक्त निरीक्षण कर बंद पड़ी सड़कों के कार्य को दोबारा शुरू करने के आदेश दिए। विशेष तौर पर लोक निर्माण विभाग मुख्यमंत्री की सोच को धरातल में उतारने की दिशा में कार्य करे।

उन्होंने खंड विकास अधिकारियों से भी आग्रह किया कि वे विकास के लिए आवंटित धनराशि को निर्धारित अवधि में व्यय कर विकास कार्यो में तेजी लाएं और किसी कारणवश यदि राशि व्यय करने में कठिनाई आ रही हो तो संबंधित जनप्रतिनिधि को विश्वास में लेकर उस राशि को वापस करें, ताकि किसी अन्य स्थान पर उसका सदुपयोग किया जा सके।

सरकाघाट के विधायक कर्नल इंद्र ¨सह, करसोग के हीरा लाल, बल्ह इंद्र ¨सह गांधी और जोगेंद्रनगर के विधायक प्रकाश राणा ने भी बहुमूल्य सुझाव दिए। इससे पूर्व उपायुक्त ऋग्वेद ठाकुर ने अध्यक्ष सहित सभी गैर सरकारी व सरकारी सदस्यों का स्वागत किया। अतिरिक्त उपायुक्त राघव शर्मा ने बैठक का संचालन किया। बैठक में जिला परिषद अध्यक्ष सरला ठाकुर, नगर परिषद मंडी की अध्यक्ष सुमन ठाकुर भी मौजूद थीं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस