प्रेम वर्मा, लगवैली, कुल्लू

किसी को भी यह देखकर हैरानी होगी कि जिला मुख्यालय स्थित बहुमंजिला मिनी सचिवालय के भवन में स्थित बागवानी विभाग का कार्यालय खंडहर बन गया है। ऐसा नहीं कि इसमें विभाग का स्टाफ नहीं बैठता, बल्कि हैरानी इसी बात की है कि जिला प्रशासन की नाक तले बागवानी विभाग का कार्यालय जीर्ण-शीर्ण हालत में पहुंच चुका है। इस कार्यालय में रोजाना सैकड़ों लोग अपने विभिन्न कार्य से आते हैं। रोजाना विभाग के अधिकारी व कर्मचारी भी यहां नौकरी बजाने आ रहे हैं। बावजूद इसके कार्यालय की इस बदहाली को लेकर कुछ नहीं किया जा रहा है।

इस भवन की दीवारों में कई जगह बड़े-बड़े छेद पड़ गए हैं। कहीं पर दीवारों की दरारें डरा रही हैं और विभिन्न कमरों में खिड़कियां भी टूट चुकी हैं, लगभग दीवारों पर लटकी होने जैसी स्थिति है, जबकि उनमें लगे शीशे भी बहुत कम साबुत दिख रहे हैं। यही नहीं कार्यालय के शौचालयों की हालत इससे भी बदतर है, जहां पानी का पर्याप्त इंतजाम तक नहीं और साफ-सफाई की ओर तो शायद किसी ने ध्यान ही नहीं दिया। यहां कार्यालय के साथ एक नए शौचालय का निर्माण हुआ तो पुराना वैसे ही किनारे हो गया, लेकिन सरकारी संपत्ति की बर्बादी की ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया। यहां पर गंदगी का आलम है। इस बारे में कुल्लू के उपायुक्त यूनुस का कहना था कि लोक निर्माण विभाग को पूरे मिनी सचिवालय के रखरखाव व आवश्यक मरम्मत के लिए कहा गया है। शीघ्र ही पूरे भवन में मरम्मत कार्य करके इसे बेहतर बनाया जाएगा।

Posted By: Jagran