जागरण टीम, मंडी : मंडी जिला में कांग्रेस के बंद का कोई खास असर देखने को नहीं मिला है। जिलेभर में अधिकतर दुकानें खुली रही। मंडी में भी कांग्रेस के बंद का असर देखने को नहीं मिला। कांग्रेस कार्यकर्ता जबरन दुकानों को बंद करवाते नजर आए। लोगों ने कांग्रेस के बंद के आह्वान को नकार दिया। कुछ एक बाजार मिला-जुला असर रहा है।

-------------

गोहर व चैलचौक में खुली रही दुकानें

गोहर व चैलचौक के बाजार में व्यापारिक संस्थान पूर्ण रूप से खुले रहे तथा रोजाना की तरह क्रय-विक्रय हुआ। व्यापार मंडल गोहर के प्रधान रमेश शर्मा व सीता राम ने बताया कि व्यापारियों ने व्यवसायिक संस्थान दिन भर खुले रखे। ग्राहकों को रोजमर्रा के सामान खरीदने में कोई परेशानी पेश नहीं आई। वहीं पद्धर पद्धर बाजार सहित अन्य कस्बों में दुकानें खुली रहीं।

--------------

रिवालसर में 11 बजे तक बंद रहीं दुकानें

रिवालसर के व्यापारियों ने महंगाई के विरोध में कांग्रेस पार्टी के आह्वान पर भारत बंद का समर्थन करते हुए अधिकतर व्यापारिक प्रतिष्ठान 11 बजे तक  बंद रखे। जबकि कई व्यापारियों ने पूरा दिन दुकानें बंद रखीं। रिवालसार व्यापार मंडल के उपाध्यक्ष पवन गुप्ता ने व्यापारियों द्वारा बंद के आह्वान का समर्थन करने पर धन्यवाद किया। केंद्र सरकार द्वारा  पेट्रोलियम पदार्थो में हो रही बेतहाशा वृद्धि पर अंकुश न लगाए जाने के विरोध में  व्यापारी वर्ग व आम जनमानस हड़ताल के लिए मजबूर हुआ है। केंद व प्रदेश सरकार महंगाई रोकने में विफल रही है। इसका खामियाजा लोकसभा चुनाव में भाजपा को भुगतना पड़ेगा।

-----------------

महंगाई के नाम पर होती है राजनीति

धर्मपुर बाजार में दुकानें निर्धारित समयानुसार खुली और बंद हुई। किसी भी व्यापारी ने दुकान बंद नहीं की। वीरी ¨सह, प्यार चंद, राजकुमार, बंसी लाल, रूपलाल, श्याम ¨सह, करतार इत्यादि ने कहा कि मंहगाई को कोई भी सरकार रोकने का प्रयास नहीं करती केवल महंगाई के नाम पर राजनीति करती है और कुछ नहीं। पेट्रोल, डीजल व गैस के दाम बढ़ रहे हैं तथा अन्य खाद्य सामग्री भी महंगी हो गई हैं।

------------

भारत बंद के लिए पहुंचे ही नहीं कांग्रेस कार्यकर्ता

बालीचौकी में भारत बंद को जनता ने कोई भाव नहीं दिया। तहसील मुख्यालय में तमाम व्यापारिक प्रतिष्ठान खुले रहे। थाची, पंजाई, व गाड़ागुसैणी में भी दुकानें खुली रही। इस दौरान दिलचस्प रहा कि कहीं से भी कांग्रेस समर्थकों ने भारत बंद में न तो शिरकत की और न ही दिलचस्पी दिखाई। जोगेंद्रनगर, नेरचौक व करसोग में भी कांग्रेस के बंद के आह्वान को व्यापारियों ने नकार दिया है।

Posted By: Jagran