जागरण टीम कुल्लू/बंजार/आनी : जिला कुल्लू में हो रही लगातार बारिश और बर्फबारी से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिला के 32 बस रूट प्रभावित हुए हैं। रविवार से पहाड़ों पर हो रही बर्फबारी के बाद अब कुल्लू जिला के ग्रामीण क्षेत्रों ने भी बर्फ की सफेद चादर में ओढ़ ली है। मंगलवार को हुई ताजा बर्फबारी से निचले इलाकों में भी ठंड काफी बढ़ गई है। कड़ाके की ठंड के बीच देवभूमि कुल्लू का जनजीवन ठहर सा गया है। ताजा बर्फबारी से एक बार फिर एनएच-305 पर वाहनों की आवाजाही ठप हो गई है। बर्फबारी से कुल्लू जिला में तीन रूटों पर बसें फंसी हुई है। इसके अलावा 15 रूटों पर आधे रास्ते तक बसें भेजी गई हैं।

सबसे अधिक असर ऊझी घाटी, बंजार व आउटर सिराज में पड़ा है। रोहतांग दर्रा के साथ जिला कुल्लू की पहाड़ियों, लाहुल घाटी में भारी हिमपात हुआ है। ग्रामीणों इलाकों में भी रुक-रुक कर बर्फबारी होती रही। बर्फबारी और बारिश से जिले के किसान-बागवान खुश हो गए। बर्फबारी सेब के साथ पलम, नाशपाती के लिए वरदान मानी जा रही है।

बर्फबारी से जलोड़ी दर्रा के साथ आउटर सिराज के ऊंचाई वाले सभी मार्ग अबरूद्व हो गए हैं। जिला कुल्लू के कई गांवों में बिजली गुल हो गई है। भारी बर्फ पड़ने से घाटी के संवेदनशील इलाकों में हिमखंड गिरने की आशंका बनी हुई हैं।

कुल्लू जिला में पिछले कुछ दिनों से लगातार वर्षा व बर्फबारी के चलते उपायुक्त डॉ. ऋचा वर्मा ने एडवाईजरी जारी करते हुए स्थानीय लोगों तथा सैलानियों को नदी-नालों से दूर रहने और बर्फबारी वाले क्षेत्रों की ओर रूख न करने की अपील की है। उपायुक्त ने कहा कि लगातार वर्षा के कारण विभिन्न स्थानों में सड़कों पर पत्थर अथवा लहासे गिरने की आंशका बढ़ जाती है और ऐसे में कोई भी व्यक्ति देर रात वाहन चलाने तथा पहाड़ी की ओर अपने वाहन पार्क करने की कोशिश न करें। सैलानी जानकारी के अभाव में पर्वतीय अथवा बर्फीले क्षेत्रों की ओर रुख न करें। स्थानीय लोग व सैलानी किसी भी आपात की स्थिति में टॉल फ्री नम्बर 1077 पर सूचना दें। उपायुक्त ने जिले के समस्त एसडीएम व तहसीलदारों को हर समय सतर्क रहने तथा स्टेशन न छोड़ने के आदेश जारी किए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस