जागरण संवाददाता, मनाली। जून के बाद हिमाचल में छाई वीरानगी दूर होने का नाम नहीं ले रही है। जुलाई में निराश रहने के बाद पर्यटन कारोबारियों को अगस्त से आस थी, लेकिन बारिश ने इस महीने भी उन्हें निराश किया है। राज्य के 3000 हजार से ज्यादा होटलों में 40 फीसद के करीब आक्यूपेंसी चल रही है। बरसात के खत्म होने के बाद ही पर्यटन का कारोबार बढ़ने की उम्मीद है।

फिलहाल, हिमाचल टूरिज्म बरसाती नुकसान की मार झेल रहा है। इसका बड़ा कारण भूस्खलन से लग रहा जाम और बंद सड़कें है। हालांकि अन्य राज्यों से मनाली आने वाले पर्यटक वाहनों में बढ़ोतरी रही। पिछले साल अगस्त में अन्य राज्य से 5300 पर्यटक वाहनों ने दस्तक दी, जबकि इस साल 6600 के लगभग पर्यटक वाहन मनाली आए। इससे लेह व लाहुल स्पीति में तो रौनक छाई रही, लेकिन पर्यटन नगरी मनाली सूनी रही।

पर्यटन कारोबारियों की मानें तो 15 अगस्त तक छिटपुट पर्यटकों के आने से राहत रही, लेकिन 17 से शुरू हुई भारी बारिश से ब्यास नदी में बाढ़ से हुए नुकसान के बाद बंद हुए सड़कों ने मनाली में पर्यटन कारोबार और मंदा हो गया।

कम आए ट्रैकिंग के शौकीन

पर्यटन कारोबारी रवि व्यास, दीपक, किशन और राजू ने बताया कि इस बार ट्रैङ्क्षकग के शौकीन पर्यटकों की संख्या भी कम रही। उन्होंने बताया कि लाहुल व स्पीति जाने वाले पर्ययकों ने रौनक लगा रखी, लेकिन उनका ठहराव एक दिन ही होने के कारण मनाली में पर्यटन कारोबार न के बराबर रहा। उन्होंने बताया कि भारी बरसात होने के कारण इन दिनों मनाली में पर्यटको की आमद न के बराबर है। अगस्त से उन्हें आस थी लेकिन बरसात के कारण उन्हें निराशा ही हाथ लगी है। उनकी मानें तो अब उन्हें दशहरा सीजन में ही बेहतर कारोबार की उमीद है।

जानें, किसने क्या कहा

अगस्त के शुरुआती दिनों में पर्यटकों की आमद ठीक रही है, लेकिन 15 अगस्त के बाद पर्यटकों की आमद में कमी आई है। अगस्त में अब तक बाहरी राज्यों से 6600 गाड़ियों ने मनाली में दस्तक दी है।

-बीसी नेगी, डीटीडीओ कुल्लू।

----

बारिश के कारण ब्यास में आई बाढ़ से सड़कों को नुकसान हुआ है। पिछले साल की तुलना में सैलानियों की संख्या कम रही है। इन दिनों ऑक्यूपेंसी न के बराबर है, लेकिन पर्यटन नगरी मनाली में अब हालात सामान्य हो गए है। फिर मनाली सहित आसपास के पर्यटन स्थलों में रौनक लौटने लगी है।

-अनूप ठाकुर, प्रधान होटल एसोसिएशन मनाली।

हिमाचल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस