जियार, जेएनएन। कहते है मौत कभी उम्र और वक्त नहीं देखती। घर और हालत के बारे में नहीं सोचती। दोस्तों की टोली निकली तो साथ थी, लेकिन अब तीन यार कभी साथ नहीं बैठेंगे। सोमवार को खजियार में एक साथ जली तीन चिताओं से माहौल पूरी तरह से गमगीन हो गया। चीखोपुकार के बीच लोग एक दूसरे को सांत्वना देते दिखे। बहरहाल, ग्राम पंचायत खजियार में सोमवार को एक साथ तीन चिताएं जली। कार हादसे में मारे गए युवकों की अंतिम यात्रा में सैकड़ों की संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ी और हर किसी ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी।

रोहित कुमार पुत्र सोम राज गांव लाहड़ा डाकघर खजियार तथा सोनीपाल पुत्र राजेंद्र कुमार गांव लाहड़ा के शव को लाहड़ा शमशानघाट में जलाया गया, जबकि अजय कुमार पुत्र तिलक राज  गांव भागरा खजियार को कुछ ही दूरी पर बैंसका स्थित शमशानघाट में मुखाग्नि दी गई। इस दौरान हर किसी की आंख नम रही। हर कोई उस घड़ी को कोस रहा था कि जब एक साथ एक ही गांव के युवक गाड़ी में सवार होकर घर से निकले थे।

इससे पूर्व रविवार को दोनों गांव में रात के अंधेरे में सन्नाटा पसरा रहा। परिजन व आसपास के लोग शव को सड़क से घर तक ले जाने के लिए देर रात तक इंतजार करते रहे। रविवार रात साढे बारह बजे युवकों की लाशों को मंडी से चंबा लाया गया। जैसे ही बैंसका में दो शव पहुंचे तो पूरे गांव में चीखोपुकार मच गई। घर सड़क से दूर होने के कारण रात के अंधेरे में लोगों को परेशानी उठानी पड़ी।

दो दिन बाद जले चूल्हे

बैंसका में दो दिन के बाद सोमवार दोपहर बाद चूल्हे जले। रोहित व सोनीपाल की  कार दुर्घटना में मौत का समाचार मिलने के बाद लोगों ने अपने घरों में खाना नहीं बनाया था। पूरा गांव गम में डूबा हुआ था।

पंडोह हादसे के घायल मंडी अस्पताल से चंबा रेफर

मंडी के पंडोह डैम में हुए कार हादसे के दो घायलों को मंडी से मेडिकल कॉलेज चंबा लाया गया है, जहां अब उनका उपचार हो रहा है। घायलों में मनु कुमार पुत्र विनोद कुमार गांव लाहडा डाकघर खजियार जिला चंबा व संजय कुमार पुत्र रमेश कुमार गांव बैंसला डाकघर खजियार जिला चंबा को शामिल हैं। चिकित्सकों का कहना है कि दोनों की हालत अब खतरे से बाहर है। शनिवार देररात चंबा से कुल्लू की तरफ जा रही कार पंडोह डैम के आगे कैंची मोड़ के नजदीक खाई में गिर गई थी।

सफर में छूट गया हमसफर का साथ, पैराग्लाइडिंग के दौरान हादसा

हादसे में तीन लोगों की मौत हो गई व तीन घायल हो गए थे। चंबा से मंडी की दूरी को देखते हुए घायल के परिजन घायलों को चंबा ले आए हैं, ताकि परिजनों को किसी तरह की कोई परेशानी न हो। उधर, मेडिकल कॉलेज चिकित्सा अधीक्षक विनोद शर्मा ने बताया कि घायलों की हालत खतरे से बाहर है। स्टाफ को घायलों की कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए गए हैं। 

आरोप साबित हुआ तो दूंगा एक करोड़ का ईनाम, आरोपित ने जांच एजेंसी को दी चुनौती

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस