कुल्लू, जेएनएन। पर्यटननगरी कुल्लू-मनाली में होटलों की मनमानी पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की कार्रवाई लगातार जारी है। एनजीटी का कुल्लू व मनाली के पर्यटनस्थलों पर नियमों की अनदेखी पर सख्त रुख रहा है। इसी कड़ी में एनजीटी की ओर से गठित समिति ने मनाली में खामियां पाए जाने वाले 40 होटलों की जांच पूरी कर समिति के प्रमुख ने मनाली के होटलों की रिपोर्ट एनजीटी में पेश की।

16 मई को लगे केस में एनजीटी ने कहा कि अभी निरीक्षण कर 40 और होटलों की रिपोर्ट पेश की जाए। इसके बाद ही एनजीटी होटल मामले में कोई बड़ा फैसला सुना सकती है। ज्ञात हो कि लगातार होटलों के निरीक्षण के दौरान पर्यटननगरी में चल रहे कई होटलों में खामियां सामने आई थी, जिसके बाद संबंधित विभागों ने इनकी रिपोर्ट एनजीटी में पेश की, इसमें मनाली के 40 होटलों की रिपोर्ट सभी विभागों द्वारा कंपाइल करके पेश की गई।

पहले यह मामला 11 मई को एनजीटी में लगा था इसके बाद एनजीटी ने इस पर 16 मई की तिथि दी। इसमें एनजीटी ने कहा कि कमेटी निरीक्षण जारी रखे और 40 और होटलों का निरीक्षण कर एनजीटी के समक्ष पेश करे। अब एनजीटी 28 मई को लगा है। एनजीटी के आदेशों के अंतर्गत समिति ने कुल्लू और मनाली के 25 कमरों से कम संख्या वाले होटलों को जांच के दायरे में लाया है। इन होटलों की जांच पर्यटन विभाग, आइपीएच, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, टीसीपी, राजस्व विभाग और वन विभाग कर रहा है।

एनजीटी में बुधवार को कुल्लू-मनाली के 40 होटलों की रिपोर्ट पेश की गई थी जिसमें एनजीटी ने कहा कि 28 मई तक 40 और होटलों की रिपोर्ट पेश की जाए। इसके बाद ही कोई फैसला हो सकता है। कुल्लू मनाली में लगातार होटलों, रेस्तरां, ढाबों का निरीक्षण जारी है, जल्द ही सभी 40 होटलों की रिपोर्ट एनजीटी को भेजी जाएगी।

-डॉ. अमित गुलेरिया एसडीएम कुल्लू।