संवाद सहयोगी, कुल्लू : करीब एक साल बाद प्रशासन ने फोरलेन प्रभावित दुकानदारों की शिकायतों पर गौर फरमाया है।

गौर रहे कि नागचला-मनाली फोरलेन का काम शुरू होने से सैकड़ों की संख्या में लोगों के आय के साधन उनके हाथों से छिन गए थे। फोरलेन के रास्ते में आने वाले सभी भवन, दुकान, खेत उजड़ गए। जिसमें सभी को उनके नुकसान मुताबिक मुआवजा मिल गया कितु इसकी चपेट में आए दुकानदारों को किसी तरह का मुआवजा नहीं मिला। दुकानदारों की आय का साधन छिन गया। कुछ को तो अपने घरों से भी बेघर होना पड़ा, ऐसे में प्रशासन ने प्रभावितों को मुआवजा देने का वादा किया था जो एक साल से पूरा नहीं हुआ, लेकिन अब एक बार फिर प्रभावितों में एक उम्मीद की किरण जगी है। प्रशासन ने प्रभावितों की समस्या का समाधान जल्द खोजने का वादा किया है। इसी विषय में कीरतपुर-नैरचौक-मनाली फोरलेन परियोजना प्रभावितों की शिकायतों की सुनवाई के लिए एक दरबार लगाया जाएगा। इसमें समस्याओं के समाधान के लिए एडीएम अपने-अपने क्षेत्रों से संबंधित अधिकारियों के साथ सप्ताहभर में प्रभावित स्थानों पर जाकर मौका करेंगे। फोरलेन प्रभावित दुकारदार संघ के अध्यक्ष बंसी लाल ठाकुर, सचिव ईश्वर दास कौशल, कोषाध्यक्ष श्याम लाल व प्रचार एवं प्रसार प्रभारी दिलसुख शर्मा बताया कि पिछले कई वर्षो से फोरलेन प्रभावित दुकानदार संघ पिछले लंबे समय से अपनी मांगों के लेकर सरकार से मांग कर रहा है। अब सरकार ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए दुकानदारों के पक्ष में यह पहला कदम उठाया है। उन्होंने कहा कि यदि समय रहते सरकार दुकानदारों के हितों की रक्षा करे तो कई लोगों को समय पर उनका हक मिल जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप