मनाली, जेएनएन। जिला कुल्लू का अनूठा फागली पर्व मनाली के आराध्यदेव व विश्व रचयिता मनु महाराज के प्रांगण में रविवार को शुरू हुआ। यह उत्सव बारी-बारी समस्त कुल्लू घाटी में मनाया जाएगा। इस अनूठे पर्व में न केवल मनाली के ग्रामीण 11 दिन तक मांस से दूरी बनाए रखेंगे, बल्कि टूडिया नामक राक्षस को बालों की गंध सुंघाकर रस्म अदायगी की करेंगे।

इस दौरान गांव के लोग 11 दिन तक घरों से बाहर नहीं निकलेंगे तथा इस उत्सव में ही व्यस्त रहेंगे। आराध्यदेव मनु महाराज कारकूनों व दवलुओं सहित गांव के हर घर दस्तक देकर उन्हें सुख व समृद्धि का आशीर्वाद देंगे।

मान्यता है कि राक्षस के खौफ से छुटकारा दिलाने के लिए मनु ऋषि ने राक्षस को इंसान के बाल जलाकर उसकी गंध सुंघाकर समझौता करवाया था। ग्रामीण उस परंपरा का निर्वाह करते हुए एक-दूसरे के बाल जलाकर टूडिया राक्षस को खुश करते हैं। आज भी घाटी के लोग एक-दूसरे के बाल जलाकर इस अनोखी परंपरा का निर्वाह कर रहे हैं।

रविवार को शुरू हुए फागली उत्सव के दौरान देव आज्ञा के चलते समस्त मांसाहारी ग्रामीण भी 11 दिनों के लिए शाकाहारी हो जाएंगे। उत्सव के दौरान देवता की पूजा-अर्चना का कार्यक्रम लगातार चलेगा। मनु ऋषि के पुजारी रोहित राम शर्मा व कारदार हेम राज ने बताया कि उत्सव के दौरान देवता गांव के समस्त घरों की परिक्रमा करेंगे तथा ग्रामीणों को आशीर्वाद देंगे। वन मंत्री गो¨वद ¨सह ठाकुर, जिला परिषद की सदस्य धनेश्वरी ठाकुर, मनाली एसडीएम रमन घरसंगी, मनाली गांव पंचायत प्रधान मोनिका भारती सहित पंचायत के उपप्रधान नील चंद तथा सभी वार्ड पंचों ने ग्रामीणों को फागली उत्सव की बधाई दी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस