संवाद सहयोगी, आनी : जिला कुल्लू के आइपीएच आनी मंडल के तहत निथर उपमंडल में जहां पूरा क्षेत्र पेयजल किल्लत से जूझ रहा है। वहीं दुराह सेक्शन में जेई का पद सालों से खाली है। इस कारण जेई कार्यालय व आवास खंडहर में तबदील होने लगा है। कार्यालय भवन की दीवारों में दरारें आ गई हैं, खिड़कियों के शीशे भी टूटे चुके हैं तथा भवन के चारों तरफ घास उग गई है। दीवारों से प्लास्टर उखड़ गया है।

आइपीएच विभाग का कार्यालय भवन 2004 में बनाया गया था, लेकिन बनने के बाद से आज तक नित्थर उपतहसील की पांच पंचायतें शिलली, लोट, दुराह, गमोग, घाटू आदि लाभान्वित करने वाले इस सेक्शन में जेई का पद कुछ समय ही भर पाया, जबकि पिछले आधे दशक से जेई का पद खाली होने के चलते यह सेक्शन डेपुटेशन के सहारे चला है। इस कार्यालय भवन में फर्नीचर भी नहीं है।

लोट-दुराह के बीडीसी सदस्य डॉ. इंद्र पाल, ज्ञान चंद, प्रदीप कुमार, लाल चंद मारकोनी, सुंदर ¨सह, गुलाब ¨सह, संजीव कुमार, भगत राम, मेहर चंद, र¨वद्र कुमार, राकेश कुमार, महेंद्र ठाकुर, शीशपाल ने कहा कि इस बारे में कई बार विभाग और सरकार को सूचित करवाया गया, लेकिन न तो अभी तक जेई का पद भरा गया, न ही खंडहर हो रहे भवन की सुध ली जा रही है।

--------------

मैंने हाल ही में कार्यभार संभाला है। जैसे ही जेई के पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू होगी, तो उम्मीद है दुराह में भी रिक्त पद भर दिया जाएगा। जबकि जेई कार्यालय की जल्द मरम्मत करवाई जाएगी।

-र¨वद्र कुमार शर्मा, एक्सईएन, आईपीएच मंडल, आनी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप