कुल्लू, जेएनएन। जिला में गत दिनों ब्यास नदी के किनारे सेल्फी लेते हुए 11 साल के बच्चे के बहने के मामले के बाद अब जिला प्रशासन ने सभी एसडीएम को नदी के किनारे हादसों के बारे में जानकारी देने संबंधी बोर्ड लगाने के आदेश दिए हैं। साथ ही टैक्सी चालकों, होटलियर्स और गाइड्स को भी पर्यटकों को नदियों के खतरे के बारे में जानकारी देने को कहा है।

यह बात डीसी कुल्लू डॉ.ऋचा वर्मा ने पत्रकारों से बातचीत में कही। उन्होंने कहा कि अधिकतर पर्यटकों को यहां की नदियों के बहाव की जानकारी नहीं होती और फेसबुक व अन्य सोशल मीडिया में अपनी सेल्फी डालने के क्रेज में हादसे का शिकार होते हैं। यही कारण है कि अब एसडीएम को इस पर निगरानी रखने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि जिले में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। बहुत से अनछुए पर्यटन गंतव्य हैं और राज्य सरकार ऐसे स्थलों को विकसित करने पर जोर दे रही है।

लोक निर्माण विभाग को दूरस्थ क्षेत्रों के पर्यटन स्थलों की सड़कों का समुचित रखरखाव करने के निर्देश दिए हैं तथा जाम की समस्या से निपटने के लिए भी आदेश दिए गए हैं। जैसे ही फोरलेन का काम पूरा होगा यह समस्या काफी हद तक हल होगी। उपायुक्त ने कहा कि जिले में संचालित अनेक साहसिक गतिविधियां केवल प्रशिक्षक पैराग्लाइडरों व राफ्टरों की निगरानी में ही हों। उन्होंने इस संबंध में पर्यटन विभाग को लगातार निरीक्षण करने को कहा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप