जागरण संवाददाता, मनाली : कृषि मंत्री डॉ. रामलाल मार्कंडेय और एसडीएम डीएसपी तथा बीआरओ कमांडर की बैठक रंग लाई है। इस बैठक से रोहतांग दर्रा पैदल पार करने वाले लाहुल के लोगों को राहत मिली है। मढ़ी तक वाहन पहुंच गया व लाहुल के लोगों ने पैदल दर्रा पार करना शुरू कर दिया है। पहले दिन सोमवार को 49 लोग दर्रे के आर-पार हुए। बैठक में हुए निर्णय के अनुसार सोमवार सुबह 5 वाहनों में 32 लोग रोहतांग रवाना हुए। वाहन मढ़ी को पार करते हुए राहनीनाला के पास पहुंच गए।

लाहुल-स्पीति प्रशासन ने पैदल दर्रा पार करने वाले राहगीरों के लिए मढ़ी व कोकसर में बचाव दल तैनात किए हैं। बीआरओ लाहुल जाने वालों को गुलाबा से आने की अनुमति नहीं दे रहा था, इस कारण लोग पैदल दर्रा पार करने से जोखिम को देखते हुए संकोच कर रहे थे। लेकिन गुलाबा से आगे वाहन ले जाने की अनुमति मिलते ही सोमवार को 49 लोगों ने दर्रा आर-पार किया। लाहुल की ओर से दो वाहनों में 17 लोगों ने दर्रा पार कर मनाली में दस्तक दी।

बीआरओ ने मौसम खुलते ही रोहतांग दर्रे की बहाली को तेज कर दिया है। सोमवार को मनाली की ओर से बीआरओ के डोजर राहलाफाल के करीब पहुंच गए हैं, जबकि लाहुल के ओर दर्रे के पास पहुंच गए हैं। मौसम ने साथ दिया तो बीआरओ एक सप्ताह के भीतर रोहतांग दर्रे को बहाल कर देगा। बीआरओ के रोहतांग पहुंचने से दर्रा आर-पार करने वालों में खुशी का माहौल है।

एसडीएम मनाली रमन ने दर्रा पार करने वालों से आग्रह किया है कि सुरक्षा का ध्यान रखें। बर्फ को देखते हुए वाहन चालक भी फोर व्हीलर वाहनों को ही गुलाबा से आगे ले जाएं।

----

मौसम साफ रहा तो बीआरओ अप्रैल के पहले सप्ताह तक रोहतांग दर्रे को बहाल कर देगा। रोहतांग को प्राथमिकता से बहाल करने के बाद बीआरओ बारालाचा व सरचू का रुख करेगा।

-कर्नल एके अवस्थी, कमांडर, बीआरओ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप