नाहन,जागरण संवाददाता। जिला सिरमौर में पिछले कुछ दिनों से मौसम में आ रहे परिर्वतन के चलते वायरल फीवर और संक्रमण बढ़ता जा रहा है। बड़ी संख्या में बच्चे इसकी चपेट में आ रहे हैं। मेडिकल कालेज नाहन की बाल ओपीडी में रोजाना 150 तक पहुंच रही है। वहीं शिशु वार्ड में भी दाखिल नौनिहालों की संख्या में इजाफा हुआ है। अधिकतर बच्चे, सांस, बुखार, खांसी और कोल्ड के चलते उपचार के लिए पहुंच रहे हैं। ओपीडी में विशेषज्ञ बाल चिकित्सक बच्चों की जांच कर उन्हें दवाइयों के साथ उचित परामर्श और मास्क पहनने की सलाह दे रहे हैं। वहीं सांस और गंभीर रूप से बीमार बच्चों को शिशु वार्ड में दाखिल कर उनका उपचार किया जा रहा है। मेडिकल कालेज में नाहन के अलावा जिले के अन्य इलाकों से मरीज उपचार के लिए पहुंच रहे हैं।

मेडिकल कालेज नाहन की बाल ओपीडी के बाहर परिजन अपने बच्चों को लेकर उपचार के लिए आए थे। इनमें कोई बुखार तो किसी को खांसी और उल्टी की शिकायत थी। बोहल के राजीव कुमार ने बताया कि उनके बेटे आरव को दो दिन से बुखार की शिकायत है। नाहन की रेखा देवी ने बताया कि उनकी तीन वर्षीय बेटी को खांसी और बुखार के चलते इलाज के लिए लाईं हैं। नाहन मेडिकल कालेज के बाल वार्ड में अधिकतर बच्चे, कफ, कोल्ड और बुखार के उपचाराधीन थे। छोटे बच्चों के बीमारी की चपेट में आने से परिजन चिंतित दिखाई दिए।

 मास्क अवश्य पहनें: डा दिनेश बिष्ट

मेडिकल कालेज के बाल विशेषज्ञ डा दिनेश बिष्ट ने बताया कि दिनों मौसम परिवर्तन के चलते बुखार और संक्रमण के मरीज बढ़े हैं। इनमें बच्चों की संख्या अधिक हैं। उन्होंने बताया कि दवाइयों के साथ-साथ अन्य सावधानियां भी बरतें। सभी जरूरी तौर पर मास्क पहनें। इसके अलावा बच्चों को पूरी बाजू के कपड़े पहनाएं। साफ-सफाई रखें, बच्चों को बारिश में भीगने न दें। बीमार व्यक्ति से बच्चों की दूरी बनाकर रखेंं। ठंडा पानी, आइसक्रीम, शीतल पेय पदार्थ का सेवन न करनें दें।

Edited By: Richa Rana