हमीरपुर, संवाद सहयोगी। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की ओर से हमीरपुर के पांच उपमंडलों में पंचायत सचिवों की परीक्षा शुक्रवार को हुई। सुबह 11 बजे परीक्षा शुरू हुई तो दूसरे केंद्रों में परीक्षा देने वाले गौतम गल्र्ज कालेज में पहुंच गए और उन्होंने वहां पर केंद्र पर परीक्षा देने के लिए हंगामा खड़ा कर दिया।

तीन केंद्रों हमीरपुर, सुजानपुर व नादौन में सचिवों की लिखित परीक्षा के केंद्र बदलने को लेकर यह हंगामा हुआ। दो दिन पहले परीक्षा केंद्र बदल दिए गए थे। इसके बाबत विश्वविद्यालय दो दिन पहले ही ईमेल के माध्यम से अभ्यर्थियों को सूचित किया था, लेकिन सुजानपुर व नादौन के 14 अभ्यर्थी हमीरपुर गौतम कन्या महाविद्यालय में लिखित परीक्षा देने पहुंच गए जहां परीक्षा केंद्र में त्रुटियों पर अभ्यर्थी आक्रोशित हो गए। यह हंगामा काफी देर तक चलता रहा।

हंगामा होने के कारण कालेज के प्राचार्य रजनीश गौतम ने विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक को दूरभाष पर परीक्षा देने वाले 14 अभ्यर्थियों के केंद्रों को बदलने की पूरी जानकारी दी। उन्होंने विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक को पूरी स्थिति से अवगत करवाने के बाद वहां से जारी दिशा निर्देशों के बाद अभ्यर्थियों को अलग हाल परीक्षा देने की अनुमति प्रदान की, जिसके बाद पूरा मामला शांत हुआ और अभ्यर्थियों की उसी रोल नंबर व केंद्र के आधार परीक्षा ली गई।

गौतम महाविद्यालय हमीरपुर के परीक्षा केंद्र के अधीक्षक रजनीश गौतम ने बताया कि शुक्रवार को परीक्षा को लेकर दो केंद्र बनाए गए थे जिसमें 300-300 बैठे। 14 विद्यार्थियों के परीक्षा केंद्र दूसरे स्थान पर थे और उन्हें विश्वविद्यालय की ओर दो दिन पहले ही बदल दिया गया था, लेकिन अभ्यर्थियों ने इमेल चेक नहीं की और वे पुराने परीक्षा केंद्र पर ही परीक्षा देने पहुंच गए जिसके चलते यह हंगामा हुआ है लेकिन परीक्षा नियंत्रक से बात करने के बाद मामला सुलझा लिया गया है। उन 14 विद्यार्थियों को अलग कमरे में बैठाकर परीक्षा ली गई है।

उपायुक्त हमीरपुर देबाश्वेता बानिक ने बताया कि पंचायत सचिवों की परीक्षा पर पूरा नियंत्रण हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला का ही रहा है। प्रशासन की ओर से केवल कानून व्यवस्था का जिम्मा रहा है। एक ही केंद्र पर छात्रों के परीक्षा केंद्र बदलने पर छात्रों को जरूर परेशानी हुई है, लेकिन उनकी परीक्षा करवा ली गई है।

Edited By: Virender Kumar