धर्मशाला, जेएनएन। ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के कंट्री पार्टनर यूएई ने हिमाचल प्रदेश में फल व सब्जी प्रसंस्करण के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जताई है। इन्वेस्टर्स मीट के दौरान मुख्यमंत्री के साथ हुई बैठक में यूएई के राजदूत अहमद अल बाना ने इस बाबत चर्चा की है। इस दौरान यूएई का प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद रहा। प्रतिनिधिमंडल ने फल एवं सब्जी प्रसंस्करण में निवेश में रुचि दिखाई। उन्होंने कहा,जलवायु विविधता के कारण प्रदेश को देश के फल राज्य के नाम से भी जाना जाता है। प्रदेश में फल एवं खाद्य प्रसंस्करण इकाइयां स्थापित करने की अपार संभावनाएं हैं। संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत ने कहा कि वित्त एवं कारपोरेट अफेयर्स राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी प्रतिनिधिमंडल से चर्चा करते हुए कहा कि भारत शक्ति और संसाधनों से प्रगति के पथ पर अग्रसर है।

ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट के कंट्री पार्टनर एवं यूएई (संयुक्त अरब अमीरात) के राजदूत डॉ. अहमद अल बाना ने कहा है कि भारत व यूएई के आपस में अच्छे संबंध हैं। पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों के नेताओं की लीडरशिप व दोस्ती का ही परिणाम है कि दोनों विकास के मामले में तेजी से आगे बढ़े हैं। डॉ. अहमद ने कहा भारत की तरह यूएई की भी यह खासियत है कि यहां हर वर्ग के लोग रहते हैं और इनमें से तीन मिलियन भारतीय व 200 विभिन्न राष्ट्रीयता के लोग काम करते हैं। भारत व यूएई का विकास को लेकर विजन भी एक जैसा है और इस कारण ही दोनों प्रगति की राह पर हैं। डॉ. अहमद ने इन्वेस्टर्स मीट में यूएई को कंट्री पार्टनर बनाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व प्रदेश सरकार का आभार जताया। कहा कि दोनों ही देश सहयोग व एकजुटता से आगे बढ़ेंगे और प्रदेश के विकास के साथ-साथ अन्य जगह भी ऐसे आयोजन करते रहेंगे। उन्होंने यूएई में होने वाले वर्ल्‍ड एक्सपो-2020 में आने के लिए प्रधानमंत्री व प्रदेश सरकार सहित निवेशकों को न्योता दिया।

Posted By: Rajesh Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस