धर्मशाला/जोगेंद्रनगर, जेएनएन। हिमाचल प्रदेश में रविवार को तीन लाख युवाओं ने पटवारी की लिखित परीक्षा दी। इस दौरान अधिकतर परीक्षा केंद्रों के आसपास के कस्‍बों में लंबा जाम लग गया। परीक्षा के लिए प्रदेश में 1188 केंद्र बनाए गए थे। लेकिन हर केंद्र पर हजारों अभ्‍यर्थियों के पहुंचने से जाम लग गया। कई परीक्षा केंद्रों पर अभ्‍यर्थी समय पर नहीं पहुंच पाए। जिला मंडी के जाेगेंद्रनगर में गुगली पुल के पास लंबा जाम लग गया। इस कारण सैकड़ों अभ्‍यर्थी फंस गए।

परीक्षा केंद्र में मौके पर मौजूद एसडीएम अमित मेहरा ने देरी से आए युवाओं को परीक्षा में बैठने का मौका दिया। परीक्षा केंद्रों में सीसीटीवी कैमरों से भी नजर रखी गई। प्रत्येक परीक्षा केंद्र में राजस्व विभाग के अधिकारी व संबंधित विधानसभा क्षेत्र के एसडीएम की मौजूदगी में अनुभवी प्राध्यापकों ने पटवारी परीक्षा का जिम्मा संभाला।

जिला मंडी में करीब 234 परीक्षा केंद्र स्थापित किए थे, जहां करीब 2500 परीक्षा पर्यवेक्षकों ने मोर्चा संभाला था। 234 परीक्षा अधीक्षकों सहित करीब सौ केंद्र अधीक्षकों की भी नियुक्ति की गई थी। नकल पर शिकंजा कसने के लिए 40 से अधिक उडऩदस्तों की टीम पुलिस बल के साथ परीक्षा केंद्रों की गतिविधियों पर नजर रखी। उपमंडल जोगेंद्रनगर के चिह्नित 26 परीक्षा केंद्रों मेंं 7211 अभ्यर्थियों के बैठने के पुख्ता प्रबंध किए गए थे।

यहां बनाए गए थे परीक्षा केंद्र

जिले के 57 हजार 878 अभ्यर्थी इस परीक्षा में हिस्सा ले रहे हैं। इनमें सदर (मंडी) के 35 परीक्षा केंद्रों में 8016, उपमंडल पद्धर के 15 परीक्षा केंद्रों में 3705, धर्मपुर के 14 परीक्षा केंद्रों में 3985, उपमंडल थुनाग के आठ परीक्षा केंद्रों में 2010, करसोग के 16 परीक्षा केंद्रों में 4596 अभ्यर्थी पटवार परीक्षा में शामिल होंगे। इसी क्रम में उपमंडल बल्ह के 40 परीक्षा केंद्रों में 7852, सरकाघाट के 25 परीक्षा केंद्रों में 7557, गोहर के 18 परीक्षा केंद्रों में 4700 और सुंदरनगर के 37 परीक्षा केंद्रों में 7235 व अन्य परीक्षा केंद्रों में 1011 अभ्यर्थियों की परीक्षा के पुख्ता प्रबंध किए हैं।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप