मनाली, जागरण संवाददाता। Himachal Tourists Entrapped, हिमाचल प्रदेश में आफत की बरसात ने पर्यटकों की चिंता भी बढ़ा दी है। बादल फटने से लाहुल स्पीति में अस्त व्यस्त हुए जन जीवन के पटरी में लौटने में अभी समय लग सकता है। लेह से मनाली आ रहे पर्यटक जगह-जगह फंसे हुए हैं। अधिकतर पर्ययकों ने सरचू, दारचा व जिस्पा में शरण ली हुई है। साकस नाले में आई बाढ़ से बंद मार्ग को बहाल किया जा रहा है। इस मार्ग के वैकल्पिक रास्‍ते बाया प्यूकर कारदंग से छोटी गाड़ियों को भेजा जा रहा है। काजा मार्ग पर भी बातल से कोकसर तक जगह जगह पर्यटक फंसे हुए हैं। डोहरनी नाले सहित छोटा व बड़ा दड़ा नाले में आई बाढ़ से मार्ग अभी बंद है। लाहुल घाटी में आज मौसम खुला है।

बीआरओ की 70, 94 व 110 आरसीसी सभी सड़कों को बहाल करने में जुट गई है। 94 आरसीसी ने तांदी संसारी मार्ग, 70 ने मनाली से सरचू व 110 ने लोसर से ग्राम्फू मार्ग की बहाली का कार्य शुरू कर दिया है। सबसे कठिन परीक्षा 94 आरसीसी की है। तांदी संसारी मार्ग पर जगह जगह पुल बह गए हैं तथा कई जगह सड़क का नामोनिशान ही नहीं रहा है।

यह भी पढ़ें: Himachal Weather Update: आज सात जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, दो दिन और सताएगा मौसम

बीआरओ कमांडर कर्नल उमा शंकर ने बताया मनाली सरचू, तांदी संसारी व ग्राम्फू काजा मार्ग की बहाली युद्धस्तर पर जारी है। उन्होंने बताया मनाली लेह मार्ग पर वाहनों की आवाजाही आज ही सुचारू हो जाएगी, जबकि ग्राम्फू काजा व तांदी संसारी मार्ग की बहाली में समय लग सकता है।

वहीं, प्रशासन ने पर्यटकों से मूवमेंट न करने का आग्रह किया है। पर्यटक जहां ठहरे हैं हालात सामान्‍य होने तक वहीं ठहरे रहें। होटलों से बाहर निकलकर सफर करना खतरे से खाली नहीं है। अभी भी जगह जगह भूस्‍खलन हो रहा है।

यह भी पढ़ें: Himachal Cloudburst Updates: हिमाचल में आफत की बरसात: लाहुल व कुल्‍लू में 10 लोग अभी भी लापता

Edited By: Rajesh Kumar Sharma