जागरण संवाददाता, पालमपुर : उपमंडल पालमपुर की पंचायत बिद्रावन के खिलड़ू गांव में निर्माणाधीन मकान से सरकारी सीमेंट बरामद किया गया है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने शनिवार रात करीब 11 बजे दबिश देकर यह सफलता हासिल की है। इस बाबत सूचना मिलते ही आरोपित फरार हो गया है।

खिलड़ू गांव में निर्माणाधीन मकान में सरकारी सीमेंट का इस्तेमाल किया जा रहा था। किसी व्यक्ति ने इस बाबत जानकारी पुलिस को दी थी। पुलिस ने दबिश देकर 30 बोरी सीमेंट बरामद की है। डीएसपी अमित शर्मा ने बताया कि आरोपित की तलाश शुरू कर दी है। पुलिस यह जांच कर रही है आरोपित ने सीमेंट कहां से खरीदा था और इसमें कौन-कौन संलिप्त हैं।

........................

सीमेंट बर्बादी का पहला मामला नहीं

जिला कांगड़ा में विकास कार्यो के लिए आने वाले सरकारी सीमेंट की बर्बादी का यह पहला मामला नहीं है। लापरवाही के कारण आए दिन ऐसे मामले सामने आते रहते हैं। बड़ी बात तो यह है कि खंड विकास कार्यालय में मामला पहुंचने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होती है। बात सिर्फ पंचायतों की नहीं, शहरी निकायों में भी यही हाल है। दो वर्ष पूर्व सितंबर 2018 में जिला मुख्यालय धर्मशाला के साथ लगती सुधेड़ पंचायत में भी 500 सीमेंट बोरी पत्थर बन गई थी। प्रारंभिक तौर पर इस संबंध में तत्कालीन खंड विकास अधिकारी ने जांच बिठाई, लेकिन उसके बाद नतीजा शून्य ही रहा।

........................

अब तक खराब हुए सीमेंट के मामले

-4 अगस्त, 2018 : नगर निगम धर्मशाला के स्टोर में 300 बोरी सरकारी सीमेंट खराब था और इसकी अनुमानित कीमत दो लाख रुपये से अधिक थी।

-7 सितंबर, 2018 : सुधेड़ पंचायत में 500 बोरी सीमेंट पत्थर बन गया था।

-27 सितंबर, 2018 : विकास खंड परागपुर की बढलठोर पंचायत में 90 बोरी सीमेंट खराब हुआ था।

-4 अगस्त, 2019 : लंबागांव की मंझेड़ा पंचायत में 60 बोरी सीमेंट लापरवाही के कारण खराब हो गया था।

-24 अगस्त, 2019 : उपमंडल जवाली की चलवाड़ा पंचायत में 60 बोरी अव्यवस्था की भेंट चढ़ा था।

-1 सितंबर, 2019 : इंदौरा की बलीर पंचायत में 35 बोरी खराब हो गया था।

-21 सितंबर, 2019 : नगरोटा सूरियां की फारियां पंचायत में 47 बोरी सीमेंट पत्थर हो गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस