शिमला, जागरण संवाददाता। HPBOSE Result, दसवीं कक्षा के हिंदी और जमा दो कक्षा के अंग्रेजी विषय के पेपर का मूल्यांकन स्कूल स्तर पर किया जाएगा। शिक्षा विभाग के निर्देश के बाद स्कूल शिक्षा बोर्ड के ड्रापिंग सेंटर से उत्तर पुस्तिकाएं वापस स्कूल पहुंच गई हैं। संबंधित विषयों के शिक्षक स्कूल में ही इनका मूल्यांकन करेंगे। प्रधानाचार्य और मुख्य अध्यापक इसके लिए शिक्षकों की ड्यूटी लगाएंगे। जिन स्कूलों में इन विषयों के शिक्षक नहीं हैं तो साथ लगते स्कूल से शिक्षक की ड्यूटी मूल्यांकन के लिए लगाई जाएगी।

उच्चतर शिक्षा विभाग के निदेशक डा. अमरजीत शर्मा ने इसको लेकर निर्देश  जारी कर दिया है। एक-दो दिन के भीतर शिक्षकों की ड्यूटी पेपर मूल्यांकन के लिए लगा दी जाएगी। 26 जून तक मूल्यांकन का कार्य पूरा कर दिया जाएगा। हर स्कूल में चार से पांच शिक्षकों की एक कमेटी बनेगी। स्कूल प्रधानाचार्य व मुख्य अध्यापक इसके मुखिया होंगे। यह कमेटी बोर्ड के तय फार्मूले के अनुसार रिजल्ट तैयार कर बोर्ड को भेजेगी।

परीक्षाओं को रद करना सरकार का सही फैसला

हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ की राज्य कार्यकारिणी ने परीक्षाएं रद करने के फैसले का स्‍वागत किया है। अखिल भारतीय राष्ट्रीय महासंघ के संयुक्त सचिव पवन मिश्रा ने कहा कोरोना की विकट परिस्थिति के चलते दसवीं और जमा दो कक्षा की परीक्षाओं को रद करना सरकार का सही फैसला है। इसी कड़ी में दसवीं कक्षा के परिणाम के लिए सरकार और स्कूल शिक्षा बोर्ड की ओर से फार्मूला तय कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर शिक्षक महासंघ की मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री और स्कूल शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष के साथ लगातार बैठकर चलती रहीं।

शिक्षा बोर्ड का धन्‍यवाद किया

शिक्षक महासंघ के प्रांत अध्यक्ष पवन कुमार, महामंत्री विनोद सूद, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जयशंकर, उपाध्यक्ष डा. मामराज पुंडीर, अतिरिक्त संगठन मंत्री सुधीर गौतम, प्रदेश मीडिया प्रभारी दर्शन लाल, भीष्म शर्मा, सुशील मल्होत्रा, सुमित भारद्वाज, रविंद्र कुमार, श्याम सिंह, तिसम ठाकुर ने सरकार और स्कूल शिक्षा बोर्ड का धन्यवाद व्यक्त किया है। संघ के प्रांत उपाध्यक्ष डा. मामराज पुंडीर ने कहा कि शिक्षा विभाग को बेहतर बनाने के लिए इस महामारी में शिक्षा मंत्री बेहतर काम कर रहे हैं। शिक्षा मंत्री ने प्रदेश के हर अध्यापक जो कोरोना से लड़ रहा है उनसे संपर्क किया।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma