जागरण टीम, धर्मशाला/कांगड़ा : हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय की ओर से बीकाम अंतिम वर्ष के घोषित परीक्षा परिणाम में जिला कांगड़ा की तीन छात्राओं समेत एक छात्र ने मेरिट में स्थान बनाया है। मेरिट में आए चार छात्र-छात्राओं में से एमसीएम डीएवी कालेज कांगड़ा के तीन छात्रों ने अपना नाम दर्ज करवाया है जबकि डिग्री कालेज रे की छात्रा ने भी मेरिट में स्थान हासिल किया है।

उधर, डीएवी कालेज कांगड़ा के प्राचार्य डा. बलजीत सिंह पटियाल ने खुशी जाहिर करते हुए तीनों छात्र-छात्राओं व उनके अभिभावकों सहित प्राध्यापकों को बधाई दी है। एचएएस बनेगी जागृति

दियोटी बडूखर के इंदौरा की जागृति एचएएस अधिकारी बनना चाहती है। मेरिट में पांचवें स्थान पर रही जागृति के पिता शशि प्रकाश के निधन के बाद उनकी माता ऊषा रानी ही खेतीबाड़ी व मनरेगा में दिहाड़ी लगाकर जागृति को पढ़ा रही हैं। मेरिट में स्थान पाने के बाद जागृति ने कहा कि वह एचएएस की तैयारी करेगी। एमबीए के बाद लक्ष्य निर्धारित करेंगे आर्यन

मेरिट में तीसरे स्थान पर रहे कांगड़ा के आर्यन हांडा एमबीए करना चाहते हैं और उसके बाद ही अपना लक्ष्य निर्धारित करेंगे। पढ़ाई के लिए उन्हें माता-पिता व डीएवी कालेज कांगड़ा के अध्यापकों से काफी सहयोग मिला और उसी की बदौलत ही वह इस स्थान पर पहुंच सके हैं। आर्यन हांडा के पिता अनिल कुमार हांडा कांगड़ा के अस्पताल में दुकान करते हैं, जबकि माता किरण हांडा गृहिणी हैं। ज्योति बनेगी सीए

मेरिट में चौथे स्थान पर रही कांगड़ा के घुरकड़ी की रहने वाली ज्योति रूंडा का सपना सीए बनना है। ज्योति ने बताया कि सीए की तैयारी के लिए वह चंडीगढ़ जाएगी और अपने सपने को पूरा करेगी। ज्योति के पिता एंथनी रूंडा सिविल ठेकेदार का कार्य करते हैं, जबकि माता सुशीला गृहिणी हैं। शिवानी का सपना सेना में अधिकारी बनना

मेरिट में दसवां स्थान हासिल करने वाली डीएवी कांगड़ा की छात्रा शिवानी ठाकुर जिला हमीरपुर के गांव पनियाला डाकघर रंगस तहसील नादौन की रहने वाली है। शिवानी ठाकुर का सपना भारतीय सेना में अधिकारी बनने का है और इसके लिए वह तैयारी कर रही है। शिवानी के पिता विजय कुमार भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए हैं और उनसे उसे प्रेरणा मिली कि वह भी देश के लिए कुछ करे। शिवानी की माता वंदना देवी गृहिणी हैं।

Edited By: Jagran