पालमपुर, संवाद सहयोगी। Shanta Kumar, पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री शांता कुमार ने दुबई से जारी बयान में कहा भारत सरकार ने एक अत्यंत महत्वपूर्ण निर्णय किया है। इसके अनुसार गणतंत्र दिवस 23 से 26 जनवरी, चार दिन तक मनाया जाएगा। 23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र की जयंती है। यह बड़ा ही महत्वपूर्ण निर्णय है। सबसे महत्वपूर्ण  बात यह है कि अब हर वर्ष गणतंत्र दिवस 23 जनवरी नेताजी सुभाष चंद्र के जन्मदिन से शुरू होगा। उन्होंने कहा नेताजी सुभाष चंद्र के निधन को 77 वर्ष हो गए हैं और भारत की आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर यह निर्णय ऐतिहासिक और महत्वपूर्ण है। उन्होंने इसके लिए भारत सरकार को बहुत-बहुत बधाई दी है।

शांता कुमार ने कहा विश्व के इतिहास में यह पहला उदाहरण है। नेताजी सुभाष चंद्र को जब भारत में काम करने नहीं दिया गया तो वह विदेशों में गए, सेना बनाई और आजादी की लड़ाई विदेशों से शुरू की। अंग्रेजों से लड़ते लड़ते वह भारत की भूमि पर भी पहुंचे और तिरंगा लहराया। दुनिया के इतिहास में यह एक बहुत बड़ा उदाहरण है।

मुख्यमंत्री से किया यह विशेष आग्रह

उन्होंने हिमाचल के मुख्यमंत्री ठाकुर जयराम से विशेष अपील की है की इस बार हिमाचल में गणतंत्र दिवस डलहौजी से शुरू करें, जहां नेताजी सुभाष चंद्र आए और रहे। 23 जनवरी को गणतंत्र दिवस का पहला कार्यक्रम डलहौजी से शुरू कर अंतिम कार्यक्रम शिमला में करें। उन्होंने यह भी आग्रह किया कि डलहौजी को एक ऐतिहासिक स्थान बनाने का प्रयत्न करें।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma