फतेहपुर, जागरण संवाददाता। सरकारी वादे पूरे न होते देख परिवार ने बलिदानी बेटे की याद में उसकी प्रतिमा व गेट बनाकर मिसाल कायम की है। 2019 में राजौरी के पुंछ में वीरगति को प्राप्त हुए उपरली सिहाल के सपन चौधरी के स्वजन ने इस कार्य को अपने पैसों से पूरा किया है।

3 जनवरी, 2019 को पंचायत मनोह सिहाल के गांव उपरली सिहाल के सपन चौधरी राजौरी के पुंछ में बर्फीले तूफान की चपेट में आकर वीरगति को प्राप्त हुए थे। स्वजन बलिदानी बेटे की याद में गेट बनवाने के लिए चार साल तक सरकार व प्रशासन से गुहार लगाते रहे लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद स्वजन ने खुद के पैसों से गेट बनवाने का फैसला लिया।

प्रतिमा बनवाने में चार लाख रुपये खर्च 

मंगलवार को गेट बनाने के साथ बलिदानी की प्रतिमा का अनावरण किया। पिता बीर सिंह ने बताया कि गेट के साथ ही प्रतिमा बनवाने पर लगभग चार लाख रुपये का खर्च आया है। उन्होंने कहा, सरकार व प्रशासन से बलिदानी के नाम का गेट बनवाने के लिए कई बार गुहार लगाई लेकिन कोई भी कदम नहीं उठाया। बलिदानी सपन चौधरी के परिवार में पत्नी ललिता देवी, दो बेटे नमिश चौधरी व सार्थिक चौधरी हैं।

फतेहपुर के एसडीएम विश्रुत भारती ने कहा मेरे ध्यान में ऐसा कोई मामला नहीं है। न ही बलिदानी के स्वजन ने मुझसे गेट व प्रतिमा बनवाने के लिए कोई पत्राचार किया है। 

Edited By: Jagran News Network

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट