धर्मशाला, जागरण संवाददाता। किसान संयुक्त किसान मोर्चा ने भारत बंद समर्थन किया है। स्वराज इंडिया हिमाचल प्रदेश व जय किसान आंदोलन व संयुक्त किसान मोर्चा  ने कहा कि हिमाचल भारत का इसका हिस्सा है व हम भारत बंद का समर्थन कर रहे हैं।

स्वराज इंडिया हिमाचल प्रदेश के महासचिव एवं सदस्य जय किसान आंदोलन व संयुक्त किसान मोर्चा हिमाचल डा. अशोक कुमार सोमल ने कहा कि यह बन्द पूरे भारत में स्वेच्छा से है कोई जोर जबरदस्ती नहीं हैं आवश्यक सेवाओं को इससे छूट है। हमारा सभी लोगों से अपील है कि केंद्र व प्रदेश सरकार की गलत नीतियों से आमजन विशेषकर किसान मजदूर छोटा दुकानदार व्यापारी व कारोबारी बहुत ही त्रस्त है। सरकार तानाशाही रवैया रखे हुए है और आमजन की आवाज को सुन नहीं रही है। आज किसान 10 महीनों से आंदोलन कर रहा है पर सरकार उनकी मांगों को मानना तो दूर पर वार्ता से भी भाग रही है। लोकतंत्र में एक लोगों द्वारा चुनी हुई सरकार के लिए ठीक नहीं है।

किसानों की मांग है कि 3 किसान विरोधी कानून जो गलत तरीके से किसानों पर थोपे हैं जो एक तरफ किसानों को बर्वाद करेंगे वहीं आमजन की जरूरतों को भी महंगा करेंगे और आमजन के हितों के विरुद्ध इसे सरकार तुरन्त प्रभाव से निरस्त करे और किसानों के सभी कृषि उत्पादों अनाज तिलहन दलहन सब्जियों फलों दूध मछली अंडा इत्यादि की उचित न्यूनतम समर्थन मूल्य का कानूनी अधिकार दिया जाए व कोई भी उत्पाद तह समर्थन मूल्य के नीचे न बिके। कॉर्पोरेट न खरीददार से कोई अन्याय करे और न ही उपभोक्ता को महंगे दामों पर बेचें।

सरकार कॉर्पोरेट के हितों की पैरवी न करे और आमजन किसान मजदूर गरीब के साथ खड़ी हो उनके हितों की रक्षा करे। अतः हम सभी सरकार की कॉर्पोरेट हितैषी व किसान मजदूर आमजन विरोधी नीतियों के विरोध स्वरूप आज एक दिन के भारत बंद का समर्थन करते हुए हिमाचल में भी स्वेच्छा से अपने अपने कारोबार बंद रखें और सरकार को एक सन्देश दें कि सरकार की आमजन किसान मजदूर गरीब विरोधी नीतियों का वहिष्कार करते हैं विरोध करते हैं। आओ मिलकर किसान संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर पूर्ण भारत बंद को कामयाब बनाएं।

Edited By: Richa Rana