मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

ज्वालामुखी, जेएनएन। लोहे को आकार देकर उसे किसी भी रूप में ढालने की कला के माहिर रोहित ने पंजाबी गायकी में भी खासी पहचान पहले ही गाने 'शौंकी जट, से बना ली। इस गाने का जादू युवाओं के सिर चढ़कर बोल रहा है। शरण दास के घर पैदा हुए 26 वर्षीय रोहित कुमार बचपन से ही पंजाबी गायकी के शौकिन रहे। वेल्डिंग की खुद की दुकान पर पिता के साथ जहां लोहे को आकार देते, वहीं रात को जाग-जाग कर गाने लिखते।

यह शौक तब परवान चढ़ा जब उन्होंने खुद के लिखे गाने व बिना किसी गुरु की तालीम के अपना पहला गाना शौंकी जट लॉन्च किया। वहीं, जल्द ही रोहित के नए प्रोजेक्ट भी तैयार हो रहे हैं। रोहित का कहना है कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि पहले ही गाने से उन्हें श्रोताओं का इतना अधिक प्यार मिलेगा। सोशल मीडिया पर भी खूब गाना पसंद किया जा रहा है।

Posted By: Rajesh Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप