संवाद सूत्र, भदरोआ : भदरोआ स्थित जगत गिरी आश्रम के साथ लगता व‌र्ल्ड पीस टैंपल को जाने वाले मार्ग को मरम्मत की दरकार है। पठानकोट-जालंधर राष्ट्रीय मार्ग से मंदिर को जाती अस्थायी सड़क पर श्रद्धालुओं को परेशानी उठानी पड़ रही है, लेकिन प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है।

अवैध खनन से गहरी हो चुकी चक्की दरिया में एक साल पहले पानी के तेज बहाव से भूस्खलन के कारण मंदिर को जाने वाला मार्ग बह गया था। मंदिर का रास्ता बहने के बाद स्थानीय विधायक रीता धीमान ने टीम सहित क्षतिग्रस्त मार्ग का जायजा लिया था और जल्द बनाने का आश्वासन दिया था। लेकिन प्रशासन ने इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया तो मंदिर प्रशासन ने मिट्टी डालकर इस मार्ग को तैयार किया, लेकिन अब मार्ग के कच्चा होने के चलते श्रद्धालुओं को धूल भरी सड़क से गुजरना पड़ रहा है। करीब 300 मीटर क्षतिग्रस्त रास्ता मंदिर की चकाचौंध को भी दाग लगा रहा है। पंजाब-हिमाचल सीमा पर ये मंदिर होने के कारण ज्यादा श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं।

श्रीश्री 108 स्वामी गुरदीप गिरी के रहनुमाई में व‌र्ल्ड पीस टैंपल का निर्माण किया गया था। टैंपल की ऊंचाई 84 फीट है, क्योंकि माना जाता है कि 84 लाख योनियों के भुगतने के बाद मुझसे जीवन प्राप्त होता है इसी बात को मद्देनजर रखते हुए इस टैंपल की ऊंचाई 84 फीट रखी गई है। टैंपल को व्हाइट मार्बल के साथ बनाया है, जोकि रविदास महाराज की सादगी का प्रतीक है। टैंपल के चार दरवाजे हैं। विश्व टैंपल के बीच सरोवर बनाया गया है।

----------------

ये रास्ता राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अंतर्गत आता है। नुकसान का ब्योरा राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की टीम ने एक साल पहले लिया था। लोक निर्माण विभाग की तरफ से यह मार्ग प्रस्तावित नहीं किया गया है।

-अरुण वशिष्ठ, अधिशाषी अभियंता लोक निर्माण विभाग।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021