संवाद सूत्र, नगरोटा सूरियां : अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा हिमाचल प्रदेश इकाई की बैठक सोमवार को विश्रामगृह जवाली में प्रदेशाध्यक्ष बलवंत सिंह राणा की अध्यक्षता में हुई। इस दौरान महासभा के राष्ट्रीय संयोजक बच्चन सिंह ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। उन्होंने कहा कि महासभा का उद्देश्य राजपूतों का एकीकरण करना है और इसके लिए हिमाचल में बैठकें की जाएंगी।

उन्होंने कहा, राजपूत अलग-अलग उपजातियों में बंटकर रह गए हैं, इसलिए उनके हितों की अनदेखी हो रही है। बेरोजगारी की समस्या को दूर करने के लिए महासभा स्वरोजगार के अवसर युवाओं को उपलब्ध करवाएगी। साथ ही गरीब लड़कियों की शादी व पढ़ाई के लिए भी आर्थिक सहायता मुहैया करवाएगी। उन्होंने कहा कि आरक्षण आर्थिक आधार पर लागू होना चाहिए, तभी हर वर्ग का उत्थान संभव होगा। बैठक में पाठ्यक्रम में महाराणा प्रताप की जीवनी, चरित्र व सिद्धांतों को शामिल करने की माग भी उठाई। महासभा ने हिमाचल में आने वाले समय में राजपूत मॉडल स्कूल शुरू करने का भी फैसला लिया और इसमें आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गो के बच्चों को निशुल्क शिक्षा दी जाएगी। इस अवसर राजपूत सभा के अध्यक्ष भीखम सिंह पगडोतरा, मुख्तयार सिंह, चैन सिंह, डॉ. राजिंद्र सिंह, कुलवंत सिंह, किरपाल सिंह, सुरेश गुलेरिया, कर्म सिंह परमार सहित अन्य मौजूद रहे।

Posted By: Jagran