भदरोआ, मुकेश सरमाल। हिमाचल पंजाब सीमा पर तहसील फतेहपुर के मंड क्षेत्र के रियाली गांव के साथ पड़ते पंजाब के गांव हंदवाल में लगे स्टोन क्रशर मालिक अब हिमाचल की भूमि पर भी अपनी नजर गढ़ाए हुए हैं। पंजाब के लगे यह क्रशर पहले कभी कभार ही हिमाचल में माइनिंग करने पहुंचते थे पर अब तो यह हिमाचल में अपनी मशीनरी लगाकर दिन रात सरेआम देवभूमि का छीना छलनी करने में जुटे हुए हैं। सीमा से सटे पंजाब में स्थापित एक स्टोन क्रशर की भारी भरकम मशीनरी लगाकर अवैध खनन कर रोजाना लाखों रुपये का कच्चा मटीरियल ले जा रहे हैं। कुछ दिन पहले भी इस क्रशर उद्योग की मशीनरी ने हिमाचल में अवैध खनन करने के लिए शाहनहर के नीचे से खनन कर एक अस्थायी रास्ते का निर्माण कर दिया था। जिसके चलते नहर के पिल्लरों को भी क्षति पहुंची थी।

यह खनन माफिया पंजाब सीमा से 500 मीटर हिमाचल की सीमा में प्रवेश कर प्रदेश की सबसे बड़ी शाहनहर सिंचाई योजना की मेन नहर से मात्र 100 मीटर की दूरी कर खनन कर रहा है। जब भी किसी अधिकारी के आने की सूचना इन तक पहुंचती है तो यह उनके पहुंचने से पहले ही अपनी मशीनरी को पंजाब की सीमा में ले जाते हैं। यह क्रशर उद्योग वर्षों से हिमाचल के खनन मटीरियल के सहारे ही चल रहा है।

क्या कहते हैं खनन अधिकारी

खनन अधिकारी नूरपूर नीरजकांत का कहना है विभाग ने रियाली एरिया में किसी भी पंजाब के क्रशर को माइनिंग करने के लिए मंजूरी नहीं दी है। मैं इसके बारे में शाहनहर विभाग के एसडीओ को भी सूचित कर रहा हूं। शीघ्र ही  छापामारी की जाएगी। अगर मशीनरी अवैध रूप से खनन करती पाई गई तो उसे जब्त कर क्रशर यूनिट के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021