मंडी, जागरण संवाददाता। कारगिल युद्ध को लेकर दिए अपने बयान कांग्रेस की प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने माफी मांग ली है। एक बयान जारी कर प्रतिभा सिंह ने कहा अगर उनके शब्दों से किसी जवान की भावना आहत हुई हो तो उसके लिए वह क्षमाप्रार्थी है। भाजपा ने इस मामले को बेवजह तूल दिया। उनका बयान सेना व किसी जवान के नहीं बल्कि भाजपा के विरुद्ध था। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने पूर्व सैनिकों के कल्याण के लिए कई योजनाएं शुरु की थी।

प्रतिभा सिंह का बयान उनके बेटे शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया है। बकौल प्रतिभा सिंह, सैनिकों का हम दिल से सम्मान करते हैं। स्व. वीरभद्र सिंह खुद भारतीय सेना में आनरेरी कैप्टन थे। सैनिकाें को भाजपा अपने निजी हित के लिए इस्तेमाल कर रही है। यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। भारतीय सेना पर हम सबको गौरव है। सेना को राजनीति से दूर रखना चाहिए।

क्या कहा था प्रतिभा ने

प्रतिभा सिंह ने गत दिनों नाचन हलके के नांडी में एक चुनावी सभा में उन्होंने कहा था कारगिल कोई बहुत बड़ा युद्ध नहीं था।हमारी जमीन पर पाकिस्तानियों ने घुसपैठ कर कब्जा किया था, जिन्हें खदेड़ा गया। उन्होंने भाजपा प्रत्याशी पर हमला बोलते हुए कहा था कि कि युद्ध में भाग लेने के लिए ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को हीरो के रूप में पेश करना गलत है।

जमकर हुआ था विरोध

भाजपा व विभिन्न सैनिकों संगठनों ने इस बयान को लेकर प्रतिभा सिंह के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था। पूर्व सैन्य अधिकारियों ने इसे शहीदों के पराक्रम का अपमान बताते हुए प्रतिभा सिंह से माफी की मांग की थी। भाजपा ने इसे चुनावी मुददा बना लिया था। बयान गले की फांस बनता देख कांग्रेस पार्टी ने इससे किनारा कर लिया था। प्रदेश कांग्रेस के सहप्रभारी संजय दत्त ने इसे प्रतिभा सिंह का निजी विचार बताया था। उनका कहना था कि पार्टी शहीदों का सम्मान करती है।

Edited By: Vijay Bhushan