शिमला, राज्य ब्यूरो। वीरवार से नवरात्र शुरू हो रहे हैं। इसके चलते प्रदेश में भक्तों को कोविड प्रोटोकाल के साथ ही मंदिरों में दर्शन करने की अनुमति दे दी गई है। बिना मास्क श्रद्धालु मंदिरों में प्रवेश नहीं कर सकेंगे। 65 साल से अधिक आयु, गर्भवती और 10 साल से कम आयु के बच्चों को प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। एक मिनट ही दर्शन की अनुमति दी जाएगी। सरकार ने सभी उपयुक्तों को निर्देंश जारी किए हैं। इसके लिए भाषा एवं संस्कृति विभाग ने अलग से एसओपी जारी की गई है। एसओपी के तहत भक्तों को मंदिर के गर्भगृह में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। मंदिरों में एलईडी स्क्रीन लगाने को कहा गया है ताकि भक्त पूजा के लाइव दर्शन कर सके। इसके अतिरिक्त मंदिरों में भजन कीर्तन करने पर पूरी तरह से रोक रहेगी। मंदिरों में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हवन यज्ञ कर सकते है। मूर्तियों को नहीं छू सकते। मंदिर में रात्रि ठहराव की अनुमति नहीं दी जाएगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव आरडी धीमान ने लोगों से अपील की है कि कम संख्या में मंदिरों में दर्शन करने के लिए जाए।

कोरोना से दो की मौत, 173 नए पाजिटिव

हिमाचल प्रदेश में बुधवार को कोरोना से दो लोगों की मौत हो गई। 173 नए पाजिटिव केस आए, जबकि 94 स्वस्थ हुए। प्रदेश में अब तक अब प्रदेश में कोरोना संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 3674 के पास पहुंच गया है। बिलासपुर में 19, चंबा में तीन, हमीरपुर में 22, कांगड़ा में 55, कुल्लू में तीन, लाहुल-स्पीति में एक, मंडी में 25, शिमला में 11, सोलन में छह और ऊना में कोरोना संक्रमण के 29 नए केस सामने आए हैं।

संक्रमित के संपर्क में आने वालों की हो रही स्क्रीङ्क्षनग

स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि प्रदेश में कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आने वाले लोगों की स्क्रीङ्क्षनग की जा रही है, ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। राज्य में अब तक 35,01,015 सैंपलों की जांच की जा चुकी है। जांच की दर को बढ़ाया जा रहा है। अस्पताल में भर्ती होने वालों की दर केवल 5.4 प्रतिशत है। इन मरीजों की स्वास्थ्य स्थिति की चिकित्सक निरंतर निगरानी कर रहे हैं। वर्तमान में प्रदेश के अस्पतालों में मात्र एक मरीज ही वेंटिलेटर पर है। प्रदेश के जिला हमीरपुर, मंडी और कांगड़ा जिला में पिछले 10 दिन में कोरोना के मामले समूह में पाए गए है। उनमें सभी मरीज लक्षण रहित है और किसी भी मरीज को अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया है।

लोगों से आग्रह है कि कोरोना वैक्सिन की दूसरी डोज समयावधि पूरी होने पर लगवा ले, ताकि कोरोना पर पूरी तरह से नियंत्रित पाया जा सके।

Edited By: Vijay Bhushan