शिमला, यादवेन्द्र शर्मा। Health Insurance Policy, कोरोना ने लोगों में भविष्य की फिक्र बढ़ा दी है। हिमाचल प्रदेश में कोरोना काल के दौरान लोगों को स्वास्थ्य बीमा और जीवन बीमा की उपयोगिता का भी पता चला है। इस दौरान स्वास्थ्य बीमा में 20 फीसद और अन्य बीमा में 30 फीसद तक की वृद्धि दर्ज की गई है। भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआइसी) की सामान्य बीमा पालिसी में करीब सात फीसद की वृद्धि दर्ज की गई है। प्रदेश में करीब 24 बीमा कंपनियां सेवा प्रदान कर रही हैं। पांच कंपनियां ऐसी हैं जो स्वास्थ्य बीमा के क्षेत्र में सबसे ऊपर हैं। कई लोगों को 25 हजार से डेढ़ लाख रुपये तक का प्रिमियम जमा करवाने पर 10 लाख से एक करोड़ तक की राशि मिली। बीमा कठिन समय में मददगार बनता है।

बीमा कंपनियों का दो वर्षों का लेखा जोखा स्वास्थ्य बीमा में

  • कंपनी, 2019-20, 2020-21
  • स्टार हेल्थ, 5.0, 6.72
  • न्यू इंडिया इंश्योरेंस, 2.11, 2.44
  • आइसीआइ लोंबार्ड, 1.05, 1.30
  • एचडीएफसी एर्गो, 0.80, 2.50

जीवन बीमा निगम की ओर से 2019-20 के दौरान किया गया बीमा व राशि करोड़ में

  • बीमा पालिसी, संख्या, राशि
  • स्वास्थ्य, 3909, 1.07
  • टर्म पालिसी, 334, 0.17
  • कुल, 20249, 380.47

जीवन बीमा निगम द्वारा वर्ष 2020-21 के दौरान किया गया बीमा व राशि करोड़ में

  • बीमा पालिसी, संख्या, राशि
  • स्वास्थ्य, 3624, 0.90
  • टर्म पालिसी, 212, 0.38
  • कुल, 21566, 435.50

बीमा में तीस फीसद तक इजाफा

वित्तीय सलाहकार जेके पाठक का कहना है कोरोना काल में बीमा करवाने को लेकर लोगों में जागरूकता आई है। स्वास्थ्य बीमा व अन्य बीमा में बीस से तीस फीसद तक की वृद्धि हुई है। स्वास्थ्य बीमा का क्लेम 70 फीसद तक रहा है जो सामान्य 25 फीसद तक रहता है। कई ऐस मामले आए हैं, जिसमें मात्र दो किश्तें दी थी और मृत्यु के कारण लाखों रुपये मिले हैं।

लोगों में आ रही जागरूकता

एलआइसी के वरिष्ठ मंडलीय प्रबंधक संग जोर का कहना है बीमा करवाने वालों में वृद्धि हो रही है। जो बीते वर्ष की अपेक्षा अधिक हैं। लोगों में धीरे-धीरे इस ओर जागरूकता आ रही है है।

बीमा पॉलिसी से कुछ राहत मिली

बीमाधारक शिमला हिमांशु ठाकुर का कहना है कोरोना पाजिटिव होने के कारण फेफड़े पूरी तरह से प्रभावित हो गए हैं। अभी तक बीस लाख रुपये का खर्च आ चुका है। स्वास्थ्य बीमा के तहत 15 लाख की स्वास्थ्य बीमा पालिसी ली थी तो उससे कुछ राहत मिली है।

Edited By: Rajesh Kumar Sharma